Breaking Tube
Business

विदेशी कंपनियों से करार कर सकती है ‘स्वदेशी’ पतंजलि, तमाम डील्स पर है CEO की नजर

according to CEO Acharya Balakrishna Swadeshi Patanjali may enter into agreements with foreign companies

पतंजलि (Patanjali) आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण (CEO Acharya Balakrishna) ने कहा कि ‘हम मल्टी नैशनल कंपनियों के खिलाफ नहीं हैं, जब तक पतंजलि की वैल्यू बरकरार रहती है. उन्होंने कहा कि हमारे पास 3-4 विदेशी कंपनियों के विकल्प हैं, जिन पर विचार किया जा रहा है’. दरअसल, पतंजलि आयुर्वेद ने खुद की ब्रैंडिंग ‘स्वदेशी’ ब्रैंड के रूप में की और खुद को विदेशी ब्रैंड का विकल्प बताया. लेकिन, अब यह कंपनी विदेशी कंपनियों के साथ डील करने के लिए तैयार हो गई है. कंपनी के CEO आचार्य बालकृष्ण ने इकनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा कि ‘3-4 विदेशी कंपनियां है, जो पतंजलि के साथ इंटरनैशनल डील्स करना चाहती हैं’.


Also Read: पेट्रोल के दामों में लगातार चौथे दिन बढ़ोत्तरी, डीजल के दाम हुए कम, जानें आज के रेट


दरअसल, फ्रांस की लग्जरी कंपनी LMVH ने पिछले दिनों कहा था कि वह पतंजलि आयुर्वेद में शेयर खरीदने की इच्छुक है. पतंजलि की वजह से हिन्दुस्तान यूनिलिवर (HUL), L’Oreal, कोलगेट और डाबर जैसी कंपनियों को आयुर्वेद प्रॉडक्ट सेगमेंट पर विशेष फोकस करना पड़ा, क्योंकि एक दशक के भीतर यह कंपनी देखते-देखते 10 हजार करोड़ की बन गई.


Also Read: प्‍याज की बढ़ती कीमतों से जल्द ही निजात दिलाएगी मोदी सरकार, 1 लाख टन के आयात की तैयारी


बता दें आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि हम किसी मल्टी नैशनल कंपनी के खिलाफ नहीं हैं, जब तक पतंजलि की वैल्यू के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं होता है. किसी कंपनी को इसलिए नकारा नहीं जा सकता है, क्योंकि वह एक मल्टी नैशनल कंपनी है. हमारी नजर इन तमाम डील्स पर है’. हालांकि, उन्होंने किसी भी कंपनी का नाम बताने से इंकार कर दिया.


Also Read: अब दूसरे नेटवर्क पर कॉल के नहीं कटेंगे पैसे, Reliance Jio के इन प्रीपेड प्लान्स से रोजाना मिलेगा 2GB डेटा और हजारों मिनट


हालांकि, नीलसन की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि के आयुर्वेद प्रॉडक्ट रेंज बाजार हिस्सेदारी में कमी आई है. साबुन, बालों में लगाने वाले तेल, सर्फ और नूडल्स की बिक्री जुलाई 2018 से जुलाई 2019 के बीच घटी है. HUL ने भी इस कैटिगरी में अपने आयुर्वेद प्रॉडक्ट को दोबारा लॉन्च किया है. कंपनी के सीईओ आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि बिक्री में गिरावट जीएसटी की वजह से हुआ है, लेकिन बिक्री में धीरे-धीरे सुधार शुरू हो गया है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से है परेशान… तो खोल लीजिये खुद का पेट्रोल पंप, सरकार दे रही ये सुनहरा मौका

BT Bureau

सावधान Jio के नाम पर चल रही है धांधली, ग्राहकों से लुटे जा रहे है लाखों रुपये

Satya Prakash

जिओ ने लांच किया Group Talk App, खासियत जानकर आप भी तुरंत करेंगे डाउनलोड

Satya Prakash