Business

सोना इम्पोर्ट सेवाओं में आयी भारी गिरावट, आखिर क्यों भारत नहीं खरीद रहा सोना!

बिज़नेस: भारत गोल्ड इम्पोर्ट के मामले में पिछले साल पांचवें स्थान पर था. दूसरी सबसे बड़ी खपत वाले देश में उच्च घरेलू कीमतों ने खरीदारों को परेशान किया, जिस कारण गोल्ड के ज्यादातर व्यापारियों के पास गोल्ड स्टॉक जमा रहा. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में गोल्ड की विदेशी खरीद 762 मीट्रिक टन तक गिर गई, जो पिछले वर्ष की तुलना में 20 प्रतिशत कम है. इस दशक में यह देश की दूसरी बड़ी गिरावट है.

 

इस साल के शुरुवात में ही सोने का आयात 23 प्रतिशत बढ़कर लगभग 60 टन हो गया. सोने की मांग, जिसका लगभग सभी आयात किया जाता है, भारत में रुपये में गिरावट के रूप में घट रही है. क्योंकि गोल्ड महंगी धातु है. डॉलर के कारण अगस्त के बाद से बुलियन में गिरावट आई है क्योंकि वैश्विक निवेशक इक्विटी मार्केट की अस्थिरता, धीमी वृद्धि के जोखिम और कम अमेरिकी ब्याज दर में बढ़ोतरी की संभावना से सुरक्षा चाहते हैं.

 

Image result for gold import

 

Also Read: RBI ने जारी की चेतावनी, कच्चे तेल के दाम में हुई बढ़ोत्तरी तो डगमगाएगी अर्थव्यवस्था

 

कॉमट्रेंडज रिस्क मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक ज्ञानशेखर त्यागराजन ने कहा, “उसकी मांग कमजोर रही है. हालांकि, 2019 की पहली छमाही में सोने के पक्ष में दृष्टिकोण बदल सकता है, मांग में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि होने की उम्मीद है क्योंकि निवेश के लिए खरीद बढ़ सकती है”. पिछले साल मुंबई में बेंचमार्क रुपए की कीमत वाले सोने का वायदा लगभग 8 प्रतिशत चढ़ गया, जो कमजोर स्थानीय मुद्रा द्वारा तीसरे वर्ष के लिए बढ़ रहा था, जो पिछले साल रिकॉर्ड में गिर गया था.

Also Read: 2000 रुपए के नोट की छपाई कम करने के बाद RBI ने दिया बड़ा बयान

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मोदी सरकार ने CRPF सहित अर्धसैनिक बलों को दिया सबसे बड़ा तोहफा, वेतन में की भारी बढ़ोत्तरी

Satya Prakash

भारत का अमेरिका को करारा जवाब, 29 US उत्पादों पर दोगुनी होगी इंपोर्ट ड्यूटी

BT Bureau

SBI के ग्राहकों के लिए बुरी खबर 31 अक्टूबर से निकाल पाएंगे सिर्फ इतने ही रुपये

Satya Prakash