Business

RBI के नियमों के कारण बंद हो सकते है देशभर के आधे ATM, नोटबंदी जैसे हो जाएंगे हालात

RBI के नियमों के बाद देशभर में एटीएम चलाने वाली कंपनियों के लिए मुसीबत हो सकती है. जी हां, आरबीआई के नए नियमों के कारण अब ATM चलाने में कंपनियों को कोई लाभ नहीं हो रहा है. ऐसे में कंपनियां सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक एटीएम से लेनदेन पर लगने वाले चार्ज को बढ़ाने की राय दे रहे हैं. कंपनियों का दावा है कि अगर यह चार्ज नहीं बढ़ाया गया तो 1 मार्च से देश भर में आधे से ज्यादा एटीएम उन्हें बंद करने पड़ेंगे. इससे देश में एक बार फिर नोटबंदी जैसा हाल हो सकता है जब लोगों को कैश निकालने के लिए लंबी लाइनों में लगना पड़ रहा था.


Also Read: RBI गवर्नर ने दी ब्याज दरों पर भारी छूट की खुशखबरी, सस्ता होगा लोन


क्या है नए नियम

आरबीआई के नए नियम के अनुसार, एटीएम में लगने वाले कैसेट्स (जिनमें नोट रखे जाते हैं) की संख्या को डबल कर दिया है. कैश ले जाने वाले वैन में आर्म्ड गार्ड रखने के लिए कहा गया है. एटीएम में साइबर सिक्योरिटी को पहले से और पुख्ता करने के लिए कहा गया है. गौरतलब है कि, ज्यादातर सभी बैंक 80 से 90 फीसदी एटीएम सर्विस को आउटसोर्स करते है. एटीएम की इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से जुड़ी कंपनी सिक्योरन्स सिस्टम के एमडी सुनील उडुपा ने लाइव हिन्दुस्तान को बताया कि आरबीआई के नए नियमों से एटीएम चलाने की लागत और बढ़ गई है. उन्होंने बताया कि अभी वैन में कैश के साथ कैसेट्स भी जाते हैं. अगर एक वैन 10 एटीएम के लिए कैश लेकर जाती है तो उसके पास इतनी जगह नहीं होती की वह दोगुनी संख्या में कैसेट्स लेकर जाए। दूसरा, सामान्य गार्ड की तुलना में आर्म्ड गार्ड लेकर जाने से कॉस्ट दोगुनी हो जाती है क्योंकि उसका वेतन ज्यादा होता है.


Also Read: पेटीएम या अन्य वॉलेट यूज करने वालों के लिए RBI ने किया बड़ा ऐलान, जानिए क्या हुए बदलाव


एटीएम चलाने की बढ़ी लगात

एटीएम कंपनियों के मुताबिक मुंबई जैसी प्राइम लोकेशन में एटीएम का किराया 40,000 रुपए पड़ता है. छोटे शहरों में भी एटीएम साइट का किराया 8,000 से 15,000 रुपए तक पड़ता है. इसमें सिक्योरिटी स्टाफ का वेतन, मेंटनेंस चार्ज और बिजली खर्च मिलाकर एटीएम चलाना काफी महंगा पड़ रहा है. एटीएम की सुरक्षा एक बड़ी परेशानी भी बन रही है जिस पर बैंक की तरफ से कोई खास काम नहीं किया जा रहा है.


बंद हो सकते हैं आधे एटीएम

अभी देश में करीब 2.40 लाख एटीएम हैं और इनमें से 50 से 60 फीसदी एटीएम बंद हो सकते हैं क्योंकि इनको चलाने में घाटा हो रहा है. ऐसे में छोटे और बड़े शहरों में एटीएम के बंद होने से कैश की किल्लत आ सकती है. एक बार फिर देश में नोटबंदी जैसा हाल हो सकता है. लोगों को कैश निकालने के लिए लंबी लाइनों जैसे हालात एक बार फिर देखने पड़ सकते हैं.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )

39 total views, 1 views today

Related news

चुनाव से पहले PF खाताधारकों को मोदी सरकार देगी यह खुशखबरी!

S N Tiwari

निफ्टी और सेंसेक्स ने बनाया नया रिकॉर्ड, जाने नया रिकॉर्ड

Ambuj

मोदी सरकार पर बैंक के काम में दखल देने का आरोप, CBI के बाद अब RBI में बवाल

Satya Prakash

Leave a Comment