Breaking Tube
Business

अच्छी खबर: अब बिना एनओसी बेफिक्र होकर बेचें अपने शहर की गाड़ी दूसरे जिले में, इस महीने शुरू होगी ये सुविधा, लोगों को मिलेगी राहत

sell your City Vehicle in another District without worrying about NOC Transport Department will soon provide facility in UP

अगर आप अपने शहर की गाड़ी को दूसरे जिले में भी बेचना चाहते है तो ये आपके लिए ये अच्छी खबर है. बता दें आपकी गाड़ी पुरानी हो गयी है या आप अपनी गाड़ी से बोर हो चुके है और उसे बेचना चाहते है तो परेशान होने की जरुरत बिल्कुल भी नहीं है. अगर सब कुछ ठीक रहा तो दूसरे जिलों में गाड़ी बेचने के लिए एनओसी (NOC) नहीं लेनी पड़ेगी. दरअसल, परिवहन विभाग (Transport Department) इस कवायद में लगा है. सूत्रों ने बताया है कि नवंबर तक लोगों को यह सुविधा दी जा सकती है. इस सुविधा के लागू होने से लोगों को काफी राहत मिलेगी.


Also Read: भारतीय रेलवे की अच्छी पहल, फोन रिचार्ज का नहीं देना होगा एक भी पैसा, करना होगा इतना सा काम


इस समय जारी व्यवस्था के तहत एक जिले से दूसरे जिले में गाड़ी बेचने के लिए वाहन स्वामी को एनओसी की जरूरत पड़ती है. एनओसी के लिए सबसे पहले फार्म नंबर 28 डाउनलोड करना पड़ता है. इसके बाद इसे भरकर गाड़ी के सभी कागज साथ लगाकर एनओसी के लिए आवेदन करना होता है. यहां से आरआई की रिपोर्ट लगने के बाद रिपोर्ट एसएसपी कार्यालय भेजी जाती है. यहां से वाहन की रिपोर्ट आने के बाद आरटीओ से एनओसी जारी कर दी जाती है.


Also Read: अब टोल टैक्स देने पर आपको मिलेगा कैशबैक, 1 दिसंबर से लागू हो जाएगी ये व्यवस्था


वहीं, अब परिवहन विभाग लोगों को परेशानी से छुटकारा दिलाने की कोशिशों में जुटा है. सूत्रों का कहना है कि पुलिस के पास सभी वाहनों का रिकॉर्ड होता है. उससे होने वाली दुर्घटना एवं किसी घटना को अंजाम दिया जाना सब ऑनलाइन दर्ज होता है. परिवहन विभाग वाहन के दूसरे जिले में बेेचे जाने की स्थिति में एनओसी के लिए वाहन की जानकारी ऑनलाइन ही ले लेगा.


Also Read: यूपी: इस तरीके से हजारों के जुर्माने पर देने होंगे मात्र 800 रूपये, मोबाइल में एम परिवहन और डिजीलॉकर एप से कागजात दिखाने पर नहीं होगा चालान


दरअसल, एनओसी लेने के लिए वाहन स्वामी को कोई फीस नहीं देनी होती है, यह नि:शुल्क जारी की जाती है. लेकिन वाहन स्वामी को इसे बनवाने के लिए पुलिस ऑफिस से लेकर आरटीओ तक में सेटिंग कर पैसे तक देने पड़ते हैं.


Also Read: और भी ज्यादा कड़े हुए ट्रैफिक नियम, बिना इंश्योरेंस वाली गाड़ी चलाई तो सीधे RTO से आ जाएगा नोटिस, हो सकती है जेल


मेरठ के आरटीओ डॉ. विजय कुमार का कहना है कि परिवहन विभाग ऑनलाइन एनओसी चेक कर गाड़ी का रजिस्ट्रेशन कराने की दिशा में आगे बढ़ रहा है. लेकिन यह सब मुख्यालय स्तर से होना है. वहां से जो भी निर्देश मिलेगा उसी के अनुसार कार्य शुरू कर दिया जाएगा.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

Paytm और फोन-पे की तरह WhatsApp से कर सकेंगे पेमेंट, सारी सुविधाओं के साथ जल्द शुरू होगी ये सेवा

Satya Prakash

अफवाह वाले संदेशों के स्रोत की जानकारी देने से व्हॉट्सएप का इंकार

Ambuj

जल्द ही आपको देखने को मिलेगा RBI के नए फीचर्स वाला 20 रुपये का नया नोट

Satya Prakash