Breaking Tube
Business

बहुत जल्द Apple iPhone में ‘i’ का मतलब होगा इंडिया!

the i in iPhone may soon stand for India and will soon i mean India in Apple iPhone

आईफोन (iPhone) बनाने वाली अमेरिकी कंपनी एपल (American Company Apple) का लक्ष्य भारत को अपनी ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग के प्रमुख हब में से एक बनाना है. इसमें आईफोन के नए मॉडल्स की असेंबलिंग शामिल होगी. एपल (Apple) के प्रॉडक्ट्स की अधिकतर मैन्युफैक्चरिंग अभी चीन में होती है. अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर के कारण ऐपल को अपना जोखिम कम करने में भारत में मैन्युफैक्चरिंग शिफ्ट करने से मदद मिलेगी.


Also Read: अब ट्रेन में मिलेगा हर बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज, प्लास्टिक सर्जरी से लेकर ऑपरेशन तक की निःशुल्क सुविधा


एपल ने कई सप्ताह तक ट्रायल के बाद हाल ही में चेन्नै के निकट फॉक्सकॉन के प्लांट में आईफोन XR की मैन्युफैक्चरिंग शुरू की है. इसके बाद कंपनी की योजना नई आईफोन 11 सीरीज को बनाने की है. सूत्रों ने बताया कि एपल ने पिछले कुछ महीनों में यूरोप को आईफोन के 6s और 7 मॉडल्स का भारत से एक्सपोर्ट किया है और अब यह अन्य मार्केट्स में भी अपने प्रॉडक्ट्स का एक्सपोर्ट करेगी.


कंपनी से जुड़े एग्जिक्यूटिव्स ने बताया कि आईफोन XR की लोकल मैन्युफैक्चरिंग से कंपनी को इम्पोर्ट ड्यूटी में लगभग 20 पर्सेंट की बचत होगी. हालांकि, इससे फोन के प्राइस में कोई कमी नहीं होगी. एपल ने भारत में बने आईफोन की कीमतों में कमी नहीं की है. एपल के दो बड़े ग्लोबल कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर्स अब भारत में मौजूद हैं. फॉक्सकॉन से पहले ताइवान की विस्ट्रॉन ने 2017 में बेंगलुरु के निकट आईफोन की असेंबलिंग शुरू की थी, लेकिन यह केवल पुराने मॉडल्स के लिए थी.


Also Read: इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए चार्ज नहीं करनी पड़ेगी बैटरी, देसी तकनीक से बना रही ये दिग्गज कंपनी, 8 साल तक चलेगी


इस बारे में ईटी की ओर से भेजे गए प्रश्नों का एपल इंडिया और फॉक्सकॉन ने उत्तर नहीं दिया. फॉक्सकॉन का प्लांट भारत में एपल के लिए मैन्युफैक्चरिंग का बड़ा दांव है. इस प्लांट में आईफोन के ऐसे मॉडल्स की मैन्युफैक्चरिंग हो सकेगी जिनकी कीमत एक लाख रुपये से अधिक है.


इस वर्ष की शुरुआत में फॉक्सकॉन टेक्नॉलजी ग्रुप के फाउंडर टेरी गोउ ने कहा था कि आईफोन की भारत में बड़े स्तर पर मैन्युफैक्चरिंग की जाएगी. सरकार चाहती है कि एपल देश में स्मार्टफोन के अपने सभी मॉडल्स की मैन्युफैक्चरिंग करे. इससे मेक इन इंडिया के लिए और इन्वेस्टर्स को आकर्षित करने में मदद मिलेगी. एपल देश में अपने मालिकाना हक वाले रिटेल स्टोर्स खोलने और सीधे ऑनलाइन बिक्री करने की भी तैयारी कर रही है. सरकार ने अगस्त में सिंगल-ब्रांड रिटेल में फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (FDI) रूल्स में छूट दी थी.


Also Read: अब ATM से नहीं निकलेगा 2000 रुपए का नोट, 500 के नोट भी हो जायेंगे गायब! RBI के निर्देशों पर बैंकों ने शुरू किया अभियान


एपल के ग्लोबल सप्लायर्स ने भारत में अपने प्लांट लगाए हैं और वे पार्ट्स के साथ ही चार्जर और बैटरी पैक जैसी ऐसेसरीज बना रहे हैं? देश के स्मार्टफोन मार्केट में एपल की हिस्सेदारी लगभग 2 प्रतिशत की है. प्रीमियम सेगमेंट में एपल का मुकाबला सैमसंग और चीन की वनप्लस से होता है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

टीवी देखने वालों के लिए TRAI ने लागू किया नया नियम, बस करना होगा ये काम वरना आपका TV हो जायेगा डब्बा

S N Tiwari

अब दूसरे नेटवर्क पर कॉल के नहीं कटेंगे पैसे, Reliance Jio के इन प्रीपेड प्लान्स से रोजाना मिलेगा 2GB डेटा और हजारों मिनट

S N Tiwari

रुपया 70 के पार! मोदी सरकार ने कहा- ‘घबराने की जरूरत नहीं’

Aviral Srivastava