Breaking Tube
Business

अब ट्रेन में मिलेगा हर बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज, प्लास्टिक सर्जरी से लेकर ऑपरेशन तक की निःशुल्क सुविधा

Worlds First Hospital Train Life Line Express will run in Korba Railway Station

12 अक्टूबर से 2 नवंबर तक कोरबा रेलवे स्टेशन (Korba Railway Station) के प्लेटफार्म नंबर एक पर रहकर कोरबा वासियों का पूरी तरह निःशुल्क इलाज करेगी दुनिया की पहली चलित रेल अस्पताल लाइफ लाइन एक्सप्रेस (Life Line Express). 7 सुसज्जित बोगी वाले चलित रेल अस्पताल के विशेषज्ञ डाक्टरों (Specialist Doctors) द्वारा स्तन और सर्वाइकल कैंसर, मुंह के कैंसर की जांच और उपचार के साथ-साथ प्लास्टिक सर्जरी एवं दांतों के रोगों का भी इलाज किया जाएगा.


Also Read: जियो से कॉल करने लिए करवाना पड़ेगा ‘डबल’ रिचार्ज, जानें पूरा प्लान और फायदे


इंपेक्ट इंडिया फाउंडेशन और भारतीय रेलवे के प्रयास से साल 1991 में शुरू हुई यह ट्रेन कोरबा में साल 2002 में पहली बार आई थी और 5 हजार से अधिक लोगों को इलाज का लाभ मिल सका था. करीब 17 साल बाद दूसरी बार कोरबा रेल्वे स्टेशन में लाइफ लाइन एक्सप्रेस पहुंची है. इस ट्रेन में 7 बोगी हैं, जिसमें 2 बोगियों में ऑपरेशन थियेटर बनाए गए हैं. जिनमें एक ही समय में 5 मरीजों का ऑपरेशन किया जा सकेगा. 12 अक्टूबर से लाइफ लाइन एक्सप्रेस में शुरू होने वाले निःशुल्क चिकित्सकीय सुविधा के लिए देश के 40 विशेषज्ञ डाक्टरों की टीम आगामी 21 दिनों तक कोरबा में अपनी सेवाएं देगें.


Image result for Life Line Express

Also Read: त्यौहार के सीजन में SBI का तोहफा, ग्राहकों के लिए लांच किया EMI डेबिट कार्ड, मिनिमम बैलेंस में मिली राहत


बता दें कोरबा वासियों को इस रेल अस्पताल में मोतियाबिंद, कटे-फटे होंठो, हड्डी से संबंधित विकारों, जलने से हुए विकारों से लेकर कान के आपरेशन तक की सुविधा निःशुल्क मिलेगी. लाइफ लाइन एक्सप्रेस में प्रशिक्षित एवं विशेषज्ञ डाक्टरों की ओर से ब्लडप्रेशर, डायबिटीज, मिर्गी जैसे रोगों का भी इलाज होगा. दरअसल, ग्रामीण क्षेत्रों से मरीजों को इलाज के लिए लाइफ लाइन एक्सप्रेस तक लाने की निःशुल्क व्यवस्था की गई है. लाइफ लाइन एक्सप्रेस में होने वाले इलाज से संबंधित मरीजों की पहचान का अभियान भी ग्राम स्तर पर चलाया गया है. कटे-फटे होंठ, मोतियाबिंद, हड्डियों के विकार, कान की बीमारी से लेकर बीपी, शूगर, मिर्गी और दांत के रोगों से पीड़ित मरीजों की पहचान पहले ही कर ली गयी है ताकि 12 अक्टूबर से उन्हें इलाज के लिए लाइफ लाइन एक्सप्रेस तक पहुंचाया जा सके.


Also Read: अब ATM से नहीं निकलेगा 2000 रुपए का नोट, 500 के नोट भी हो जायेंगे गायब! RBI के निर्देशों पर बैंकों ने शुरू किया अभियान


इस पर स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और मीतानीनों के माध्यम से सभी गांवों में घर-घर जाकर लाइफ लाइन एक्सप्रेस की सुविधाओं के बारे में लोगों को बताया जा चुका है. लाइफ लाइन एक्सप्रेस में इलाज कराने आने वाले मरीजों और उनके परिजनों के ठहरने के लिए आवासीय व्यवस्था जिला प्रशासन स्तर पर नगर पालिक निगम कोरबा की ओर से की गई है. इस व्यवस्था में स्वयंसेवी संस्थाओं ने भी मदद की है. उपचार के दौरान भर्ती मरीजों और उनके साथ आये एक परिजन को सुबह-शाम नाश्ता, दोपहर और रात्रि के भोजन की व्यवस्था निःशुल्क की जाएगी.


Image result for Life Line Express

Also Read: अब ट्रेन के लेट होने पर यात्रियों का होगा फायदा, 1 घंटे की देरी पर मिलेंगे 100 रूपये, IRCTC ने की घोषणा


इसके अलावा लाइफ लाइन शिविर स्थल पर रियायती दरों पर भोजन और नाश्ते की उपलब्धता के लिए कैंटीन भी लगेंगी. कैम्प स्थल, आवासीय परिसर में शुद्ध पीने का पानी और साफ-सफाई की विशेष व्यवस्था होगी. आपातकालीन स्थिति में लाइफ लाइन एक्सप्रेस को बिजली की आपूर्ति क लिए भी विद्युत विभाग की ओर से जरूरी व्यवस्थाएं की गई हैं. जिले के डेढ़ सौ से अधिक स्काउट-गाईड और एनएसएस के कैडेटों की मदद ली जाएगी. विभिन्न विद्यालयों और महाविद्यालयों के यह कैडेट वालंटियर के रूप में तैनात रहेंगे. मरीजों को पंजीयन, डॉक्टर तक पहुंचाने, दवाओं के वितरण और इलाज के बाद बाहर तक वापसी या संबंधित अस्पताल में भर्ती के लिए रवाना करने का काम इन कैडेट के हवाले होगा.


Related image

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

SBI के ग्राहकों को चेतावनी, 1 दिसंबर से बंद की जायेंगी यह सुविधाएं

Satya Prakash

अगर आपने भी ध्यान नहीं दिए ये निर्देश तो डूब सकता है LIC में आपका भी पैसा

Satya Prakash

मार्च 2019 तक आधे से ज्यादा ATM हो सकते हैं बंद, नोटबंदी जैसे हालात पैदा होने का बढ़ा खतरा

BT Bureau