Breaking Tube
Business

बकरीद के मौके पर सूअर और गाय का मांस जबरन डिलीवर करवा रहा Zomato, न करने पर मिल रहीं धमकियां, हड़ताल पर बैठे सैकड़ों कर्मचारी

Zomato forcibly delivering Pork and Beef on the occasion of Bakrid Delivery Boys on Strike in West Bengal

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के हावड़ा (Howrah) में ऑनलाइन खाना डिलीवर करने वाली कंपनी जोमैटो (Zomato) के फूड डिलीवरी कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं. कर्मचारियों का आरोप है कि कंपनी उनकी इच्छा के विरुद्ध जबरन उनको गोमांस (Beef) और सूअर का मांस (Pork) डिलीवर करने के लिए मजबूर कर रही है. जिसके विरोध में वो पिछले एक सप्ताह से हड़ताल पर हैं. फूड डिलीवरी कर्मचारियों का कहना है कि वे किसी भी हाल में बीफ और पोर्क की डिलीवरी नहीं करेंगे. हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें बीफ और पोर्क पहुँचाने के लिए मजबूर किया जाता है. मना करने पर उन्हें धमकी दी जाती है और कहा जाता है कि किसी भी हाल में ऑर्डर रद्द नहीं किया जाएगा.


हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों का कहना है कि उनसे जबरदस्ती काम कराया जा रहा है जो कि उन्हें मंजूर नहीं है. इसलिए वो अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. उन्होंने बकरीद के मौके पर बीफ या पोर्क की डिलीवरी करने से मना करते हुए कहा कि इससे उनकी धार्मिक भावना आहत होती है. डिलीवरी स्टाफ ने कंपनी से उनकी धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ न करने की माँग करते हुए वेतन बढ़ाने की भी बात कही है. इसके लिए हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही समुदाय के डिलीवरी ब्वॉय हड़ताल पर चले गए.



Also Read: व्यापारिक रिश्ते तोड़ पाक ने अपने पैर पर मारी कुल्हाड़ी! अब प्याज, टमाटर के लिए ताक रहा भारत का मुंह


दोनों समुदाय के स्टाफ का कहना है कि वो अपनी धार्मिक मान्यता के खिलाफ जाकर फूड डिलीवर नहीं करेंगे. जोमैटो में ऑर्डर की डिलीवरी करने वाले मोहसिन अख्तर ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि ‘हाल ही में कंपनी के एप से कुछ मुस्लिम रेस्तरां भी जोड़े गए हैं, लेकिन हमारे यहाँ ऑर्डर डिलीवरी करने वाले कुछ लड़के हिंदू समुदाय से भी आते हैं, इन्होंने बीफ फूड की डिलीवरी करने से इंकार कर दिया है. कुछ दिनों में हमें पोर्क की भी डिलीवरी देनी पड़ेगी. लेकिन हम इसकी डिलीवरी नहीं करेंगे’.


मोहसिन का कहना है कि ये सारी घटनाएँ कंपनी में हिन्दू-मुसलमानों के बीच भाईचारे की भावना को भी प्रभावित कर रही हैं. उसने आरोप लगाया है कि कंपनी को सब कुछ पता है लेकिन कंपनी उनकी मदद करने के बजाय उनके ऊपर ही झूठे आरोप लगा रही है. इसके साथ ही मोहसिन ने वेतन से जुड़ी समस्याओं के बारे में भी बताया और कहा कि वहाँ मोडिकल सुविधाएँ भी नहीं दी जाती हैं.



Also Read: Article 370 हटने के बाद इस कंपनी ने दिया फैक्ट्री लगाने का प्रस्ताव, जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को मिलेगा रोजगार


वहीं, जोमेटो के एक डिलीवरी मैन बजरंग नाथ वर्मा ने कहा कि ‘जिस बैग में खाना लेकर हम लोग डिलीवरी करते हैं, वो बैग लेकर घर जाना पड़ता है. उनका आरोप है कि डिलीवरी नहीं किये जाने पर उनके कुछ साथियों के खिलाफ कंपनी ने गोलाबाड़ी थाने में शिकायत दर्ज करवाया है. उन सभी को धमकी भी मिल रही हैं. उनका आरोप है कि कंपनी की ओर से परिचय पत्र नहीं दिया गया है. पीएफ और मेडिकल सुविधाएं भी नहीं मिलती है. महीने के अंत में न्यूनतम वेतन भी नहीं मिलता है’.


पश्चिम बंगाल सरकार के मंत्री और टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने इस मामले में जाँच का भरोसा दिया है. राजीब बनर्जी ने कहा कि ‘मुझे भी लगता है कि जो कंपनी ऐसा कर रही है कि उसे एक बार फिर से सोचना चाहिए. उन्हें किसी भी धर्म के स्टाफ को उसके विश्वास के खिलाफ चलने के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए, ये बहुत गलत है. हमें ऐसे कदम की जानकारी नहीं है. चूँकि हमसे इस बारे में संपर्क किया गया है, इसलिए इस बाबत हम कार्रवाई करेंगे’.



Also Read: 15 साल पुरानी कार से है प्यार तो ज्यादा खर्च के लिए हो जाइये तैयार, सरकार ने मोटर व्हीकल्स को लेकर रखा नया प्रस्ताव


गौरतलब है कि हाल ही में जोमैटे ने अपने गुरुग्राम ऑफिस में आवश्यकता से अधिक 100 कस्टमर्स सपोर्ट कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया. कंपनी ने कॉस्ट कटिंग करने के लिए छँटनी करने का कदम उठाया था. कंपनी ने कहा था कि यह छँटनी ग्राहक देखभाल विभाग में आवश्यकता से अधिक कर्मचारी होने के कारण की गई है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

JIO दे रहा धमाकेदार ऑफर, World Cup के सारे मैच देखें फ्री

Satya Prakash

वॉट्सएेप को टक्कर देने के लिए बाबा रामदेव लॉन्च करेंगे किम्भो

Satya Prakash

मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, कैंसर जैसी 50 गंभीर बीमारियों की दवाओं में भारी कटौती

admin