Crime Lok Sabha 2019

प्रयागराज: सपा को नहीं दिया वोट तो परिवार वालों पर लाठी-डंडों से किया हमला, महिलाओं से की अभद्रता

SP Supporters beaten a family

लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद चुनावी रंजिशों के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा पूरे चुनाव में देखी गई. अभी हाल में ही अमेठी में बीजेपी कार्यकर्ता की मौत भी चुनावी दुश्मनी में की गयी. जिसके बाद अब प्रयागराज से चुनावी रंजिश का ताजा मामला सामने आया है, जहां समाजवादी पार्टी को वोट नहीं देने को लेकर चुनावी रंजिश पैदा हुई.


Also Read: अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह की हत्या, गांव में तनाव का माहौल


बीते रविवार को दबंगों ने एक परिवार पर हमला बोल दिया. जिसमें पवन द्विवेदी, उनके बेटे मनीष द्विवेदी और कल्लू द्विवेदी गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस को दी तहरीर में पीड़ित मनीष द्विवेदी ने बताया कि 12 मई को जिले में मतदान के दौरान रामचंद्र यादव, शिवम यादव और दिनेश यादव ने समाजवादी पार्टी के पक्ष में मतदान करने को कहा था और ऐसा न करने पर मारपीट की धमकी दी थी.


Also Read: पश्चिम बंगाल: रूपा गांगुली का बड़ा बयान, कहा- बीजेपी की जीत के डर से ममता ने TMC के लोगों से करवाई हिंसा, अभी भी है गुंजाइश


एफआईआर के मुताबिक रविवार (26 मई) को उक्त तीनों लोग अपने साथी जुगल किशोर और रवि शंकर यादव के साथ मिलकर पवन द्विवेदी, मनीष द्विवेदी और कल्लू द्विवेदी पर लाठी डंडे से हमला किया और घर की महिलाओं के साथ अभद्रता भी की.


Also Read: सुरेंद्र सिंह हत्याकांड: अमेठी पहुंचकर स्मृति ईरानी ने भाजपा नेता की अर्थी को दिया कंधा


शहर के सोरांव थाना के निरीक्षक अरुण चतुर्वेदी ने बताया कि पुलिस ने पीड़ितों का मेडिकल करवा कर 5 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धाराओं 147, 623, 504, 506, 452, 427 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. साथ ही आरोपियों की तलाश की जा रही है.


Also Read: लालू यादव ने चुनाव में पार्टी की हार के बाद छोड़ा खाना, इलाज में जुटे डॉक्टर परेशान


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

वाराणसी: गठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर की उम्मीदवारी रद्द, नहीं लड़ सकेंगे PM मोदी के खिलाफ चुनाव

BT Bureau

भाजपा विधायक बोले- राष्ट्रपिता का दर्जा महात्मा गांधी को नहीं, भीम राव आंबेडकर को दिया जाना चाहिए था

S N Tiwari

देश के इतिहास में पहली बार 18 घंटे काम करने वाला प्रधानमंत्री मिला: केशव मौर्य

Jitendra Nishad