Breaking Tube
Crime

खुलासा: आगरा में सिपाहियों संग मिलकर महिला ने बनाया ब्लैकमेलिंग रैकेट, गिरफ्तारी का डर दिखाकर बिल्डरों और इंजीनियरों से ऐंठे जा रहे थे पैसे 

agra two policemen arrested

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में दो पुलिसकर्मियों द्वारा एक महिला को साथ लेकर बिल्डरों और इंजीनियरों को ब्लैकमेल करने का मामला सामने आया है। पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से महिला बिल्डर और इंजीनियर को बदनामी और गिरफ्तारी का डर दिखाकर 50 हजार से पांच लाख रुपए तक का सौदा करती। इस मामले में दो पुलिसकर्मियों समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

 

युवती ने रोमांटिक बातें कर बिल्डर के उतरवा दिए कपड़े

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, थाना ताजगंज क्षेत्र में एक मकान के अंदर युवती द्वारा एक कारोबारी को ब्लैकमेल किया जा रहा था। पुलिस की जांच में पता चला है कि युवती ने मकान खरीदने के लिए बिल्डर से संपर्क किया था और उसे ताजगंज क्षेत्र की कॉलोनी में अपने किराए के मकान पर बुला लिया।

 

Also Read: शर्मनाक: हेड कांस्टेबल को इंस्पेक्टर ने दिए थे 4500 रुपए, फिर भी सड़े-गले टायरों से किया शव का अंतिम संस्कार

इसके बाद जब बिल्डर उसके घर पहुंचा, उस वक्त युवती अकेली थी। इस दौरान युवती ने बिल्डर से रोमांटिक बातें करनी शुरु कर दीं, उसने बिल्डर को बताया कि उसका पति एक फौजी है। वहीं, बिल्डर भी युवती की रोमांटिक बातों में आ गया और उसने अपने कपड़े उतार फेंके। इस दौरान बिल्डर का वीडियो बनाने के बाद शोर मचा दिया गया।

 

Also Read: यूपी: ऐसे DGP जिन्होंने पुलिसकर्मियों की गृह जनपद के पास तैनाती का लिया फैसला, कहा था ऐसा करने से अनुशासित रहते हैं पुलिसवाले

 

पुलिस के मुताबिक, इसके बाद एक युवक आया जिसने बताया कि वो उसका फौजी पति है। सबसे अहम बात तो यह रही कि इस मामले में बिना पुलिस को सूचित किए ही कुछ ही देर में दो सिपाही वहां आ धमके। आफत तो तब आ गई जब चीख पुकार मचने पर कॉलोनी के लोगों ने भी पुलिस को फोन कर दिया। पुलिस के पहुंचते ही मामला खुल गया। बिल्डर ने बताया कि युवती और उसके साथी मामले को रफा दफा करने के लिए 10 लाख रुपये मांग रहे थे, इस पर शक गहराता चला गया और मामला खुल गया।

 

Also Read: Special: जब बारात में कार ले जाने के लिए सुलखान सिंह के पास नहीं थे पैसे, पिता से बोले- बैलगाड़ियां हैं न, आपकी बहू इसी से विदा करा लाएंगे

पहले से ही बाहर खड़े रहते थे पुलिसवाले

पुलिस का कहना है कि सदर बाजार थाने पर तैनात सिपाही दीपक सोलंकी और पुलिस लाइन में तैनात कवि चौधरी के साथ अपने पति से अलग रह रही महिला और ब्लैकमेलिंग का प्लान तैयार करने वाला इंद्रापुरम निवासी आशीष शर्मा के अलावा महिला का भाई बनकर गिरोह में शामिल रकाबगंज निवासी गौरव ब्लैकमेलिंग का रैकिट चला रहे थे।

 

Also Read : Special: पुलिस नियमावली में निर्धारित 30 CL और 30 EL पुलिसकर्मियों को मिलने लगे तो वीकली ऑफ की नहीं पड़ेगी जरूरत

 

युवती सोशल मीडिया पर बिल्डर और इंजीनियर जैसे पैसेवाले लोगों से चैटिं कर उन्हें कमर पर बुलाती और फिर उनके कपड़े उतरवाने के बाद वीडियो बनाती थी। इसके बाद गिरोह का सदस्य आशीष उसका पति बनकर आता था तब महिला का पति फोन कर दोनो पुलिसकर्मियों को बुला लेते। इसके बाद बदनामी और गिरफ्तारी का डर दिखाकर उनसे 50 हजार से पांच लाख रुपए तक ऐंठे जाते थे।

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अब आरबीआई खोलेगा जाली नोट जमा करने वालो की पोल, फॉरेंसिंक जांच शुरू

Satya Prakash

इलाहाबाद: रिटायर्ड दरोगा की पीट-पीटकर हत्या, वारदात सीसीटीवी में कैद, आरोपी हिस्ट्रीशीटर जुनैद की तलाश में जुटी पुलिस

BT Bureau

मुरादाबाद: मस्जिद में 8 साल के मासूम से दुष्कर्म, आरोपी इमाम गिरफ्तार

BT Bureau

Leave a Comment