Crime International Social

जानिये कौन है महंत स्‍वामी आनंद गिरि, जिनके ऊपर ऑस्‍ट्रेलिया में महिलाओं से मारपीट का है आरोप

mahant swami anand giri

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले के निरंजनी अखाड़े के महंत और खुद को ‘घुमंतू योगी’ बताने वाले स्वामी आनंद गिरि को ऑस्ट्रेलिया के सिडनी शहर में महिलाओं से उनके बेडरूम में मारपीट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इन महिलाओं ने उन्हें सिडनी में अपने घर पूजा कराने के लिए आमंत्रित किया था. इस दौरान आनंद गिरि को 26 जून तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.


Also Read: लोगों के साथ बैठक में व्यस्त थीं BJP प्रत्याशी, TMC कार्यकर्ताओं ने किया पथराव और बनाया बंधक


मूल रूप से उत्‍तराखंड के रहने वाले 38 वर्षीय स्वामी आनंद गिरि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य हैं. वह देश-विदेश में योग सिखाने का काम करते हैं. आनंद गिरि के मुताबिक उन्‍हें 12 साल की अवस्‍था में ईश्‍वर का संदेश मिला और वह आध्‍यात्मिक मार्ग पर चल निकले. बताया जाता है कि आनंद गिरी हरिद्वार के एक आश्रम में महंत नरेंद्र गिरि से मिले थे. नरेंद्र गिरि को लगा कि आनंद उनका अच्‍छा शिष्‍य बन सकता है, इसलिए उन्‍हें वह अपने साथ प्रयागराज ले आए. आनंद गिरि साल 2007 में निरंजनी अखाड़े से जुड़े और अब इसी अखाड़े में महंत हैं.



Also Read: अलवर गैंगरेप: मायावती का कांग्रेस सरकार पर हमला, कहा- वोटिंग तक पीड़ित परिवार को डरा धमकाकर रखा


इसके अलावा आनंद गिरि विश्‍व प्रसिद्ध लेटे हनुमान मंदिर के उप महंत हैं. बताया जा रहा है कि पिछले दिनों महंत नरेंद्र गिरि और आनंद गिरी बीच खटपट हुई है. आनंद गिरि पर देश में अभी तक कोई संगीन आरोप नहीं लगा है. आनंद गिरी ने एक गंगा सेना बनाई है जो गंगा की सफाई का काम करती है.


Also Read: दिग्विजय सिंह के रोड शो में ‘भगवा गमछा’ पहने दिखे पुलिसकर्मी, चुनाव आयोग जाएगी BJP


संत आनंद गिरि पर दो अलग-अलग मौकों पर दो महिलाओं के साथ मारपीट का आरोप लगाया गया है. साल 2016 में नव वर्ष के दिन रूटी हिल स्थित एक घर में पूजा में हिस्सा लेने के दौरान शयनकक्ष में स्वामी पर महिला पर कथित रूप से हमला करने का आरोप लगा है.


-

वहीं, दूसरे मामले में साल 2018 में स्वामी आनंद गिरि पर 34 साल की महिला से अभद्रता करने और उस पर हमला करने का आरोप लगा है. महंत नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि की गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि मामला मारपीट का नहीं है, बल्कि साधु-संतों के पीठ थपथपा कर आशीर्वाद देने का है. उधर, पुलिस का कहना है कि दोनों ही मामलों में महिलाएं पहले से ही आनंद गिरि को जानती हैं.


Also Read: एकतरफा इश्क में अंजुम शेख ने बिगाड़ा युवक चेहरा, बुर्का पहनकर आई और तेजाब फेंककर हुई फरार


जानकारों का कहना है कि ऑस्‍ट्रेलिया के कानून के अनुसार यदि कोई व्यक्ति गैरकानूनी और अमर्यादित आचरण का दोषी पाया जाता है तो उसे 5 से लेकर 7 साल तक की सजा हो सकती है.



हालांकि, इस मामले में सामान्य तौर पर ऑस्‍ट्रेलिया में 2 वर्ष की सजा और 24 हजार रुपये ऑस्‍ट्रेलियाई डॉलर की सजा का प्रावधान है. उधर, महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि आनंद को पीठ थपथपाकर आशीर्वाद की परंपरा को अमर्यादित आचरण करार देते हुए उन्हें आरोपी बनाया गया और गिरफ्तार किया गया है. उच्च अदालत में जमानत की अर्जी डाली गई है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


439 total views, 1 views today

Related news

भारत सहित चीन जैसे विकासशील देशों की सब्सिडी बंद करना चाहते हैं ट्रंप

Aviral Srivastava

इटावा: अराजकतत्वों ने तोड़ी आंबेडकर की प्रतिमा, इलाके में तनाव

S N Tiwari

BJP प्रवक्ता पर जूता फेंकने वाले डॉ. शक्ति भार्गव अब कर रहे ‘जूता पॉलिश’, स्मृति ईरानी पर साधा निशाना

S N Tiwari

Leave a Comment