Crime

लखनऊ: पलक झपकते ही मोबाइल करते पार, सैलरी मिलती है 10 हजार

mobile chor gang in lucknow

इन दिनों उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मोबाइल चोर गैंग सक्रिय है. जो शहर के बाजारों एवं भीड़भाड़ वाली मार्केट में लोगों के मोबाइल शातिर तरीके से चुरा रहा है. ये लोग इस काम को मजबूरी में नहीं कर रहे है. इस काम के लिए इन्हें बकायदा हर महीने सैलरी भी मिलती है. चोरी करने वाले लड़के मोबाइल को अपने मालिक के पास देते है और महीने भर ऐसा करने के बाद उनको 10 हजार रूपये वेतन भी मिलता है.


Also Read: मदरसा संचालक समेत 7 ने किया छात्रा से गैंगरेप, बोला- छोटी बहन भी मेरे हवाले करो नहीं तो कर दूंगा Video वायरल


शहर के पीजीआई थाना क्षेत्र में हुई मोबाइल चोरियों के राजफाश के दौरान इसका पता चला. पीजीआई थाना क्षेत्र में वृंदावन कॉलोनी सेक्टर-8 स्थित सब्जी बाजार में कॉलोनी निवासी एसके दुबे, तेलीबाग निवासी रविंद्र कुमार, शोभित और पवनेश कुमार सब्जी खरीदने गए थे. इसी दौरान उनकी जेब से चोरों ने मोबाइल निकाल लिया. वहीं, बाजार में चोरी कर रहा एक आरोपी छोटू निवासी दुबग्गा को लोगों ने रंगे हाथ पकड़ लिया.


Also Read: कानपुर: रिक्शे में स्कूटी लदवाकर लड़की से बोले सीओ- भेजा न खराब कर, कोतवाली जा वहीं मिलेगी


पीड़ित एसके दुबे के मुताबिक पुलिस के सामने पूछताछ के दौरान आरोपी छोटू ने बताया कि वह एक गैंग में काम करता है. इसको चलाने वाला हर माह 10 हजार सैलरी ग्रुप में काम करने वाले लोगों को देता है. सभी लड़के मोबाइल चोरी कर उसी को देते हैं. वहीँ, पुलिस ने भी बताया कि चोरों ने चोरी के लिए सैलरी मिलने की बात कही है. पुलिस ने पीड़ितों की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.


Also Read: लखनऊ: 5 साल तक महिला से यौन शोषण करता रहा सिपाही, गिरफ्तारी की नौबत आते ही कर ली शादी


वहीं, इंस्पेक्टर पीजीआई के मुताबिक अभी यह पता नहीं चल पाया कि आरोपी किसके लिए काम करता है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

Video: हाथ जोड़कर जान की भीख मांगता रहा DSP, भीड़ ने पीट-पीटकर किया अधमरा, कई पुलिसकर्मी घायल

Jitendra Nishad

महिला सुरक्षा को लेकर बड़ा कदम, यौन अपराधियों की कुंडली तैयार

Satya Prakash

राजस्थान: अलवर के गोदाम से 220 गायों के शव बरामद, कई राज्यों में सप्लाई होता था मांस

BT Bureau