International

मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट ‘आयुष्मान भारत’ को अमेरिकी थिंक टैंक ने सराहा, कहा- एक सकारात्मक प्रयास

america praised to ayushman bharat

अमेरिका के एक शीर्ष थिंक टैंक ने कहा है कि भारत के पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट की महत्वाकांक्षी स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत’ सार्वभौम स्वास्थ्य कवरेज की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है. लेकिन, सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए कि यह ठोस तरीके से काम करे और भारतीयों को अच्छी गुणवत्ता वाली देखभाल मुहैया कराए.


Also Read: जानिये कौन है महंत स्‍वामी आनंद गिरि, जिनके ऊपर ऑस्‍ट्रेलिया में महिलाओं से मारपीट का है आरोप


वॉशिंगटन डीसी स्थित सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट (CGD) नाम के थिंक टैंक के शोधकर्ताओं ने प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY) के प्रथम वर्ष के विश्लेषण के आधार पर कहा कि ‘कुल मिलाकर प्रयास सकारात्मक रहा है’. हालांकि, उन्होंने लागत और गुणवत्ता से संबंधित कुछ चुनौतियां भी गिनाईं और कहा कि अगर इनसे नहीं निपटा गया तो इससे योजना की प्रगति पटरी से उतर सकती है.


Also Read: अमेरिकी पत्रिका ‘टाइम’ ने PM मोदी को बताया ‘India’s Divider In Chief’, लिखा- हिंसक भीड़ के साथी बने नरेंद्र मोदी


सीजीडी की मुख्य परिचालन अधिकारी (COO) और अध्ययन के लेखकों में शामिल अमांडा ग्लासमैन ने पीटीआई को बताया कि ‘मोदीकेयर (आयुष्मान भारत योजना) के कारण करोड़ों लोग स्वास्थ्य देखभाल का लाभ ले रहे हैं, जिससे सरकार द्वारा वित्तपोषित स्वास्थ्य बीमा ले रहे लोगों की संख्या में इजाफा हुआ है और शुरुआती अनुमानों से यह संख्या कहीं ज्यादा है’.


Also Read: चीन में मुसलमानों पर जुल्म की इंतेहा, रोजा रखना और नमाज पढ़ना गुनाह, तोड़ी जा रही मस्जिदें


रिपोर्ट जारी होने से पहले ग्लासमैन ने कहा कि ‘हमने पाया कि 50 करोड़ से ज्यादा लोग अब ‘मोदीकेयर’ की कवरेज या सरकार प्रायोजित कार्यक्रम के लिए पात्र हैं. यह काफी शानदार संख्या है, लेकिन लागत को कम करने और गुणवत्ता में सुधार करने के लिए अभी काफी कुछ करना बाकी है’.


अमेरिका ने भी माना 'आयुष्मान भारत' योजना का लोहा, कही ये बड़ी बात

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


341 total views, 1 views today

Related news

देखिये पाकिस्तानी रिपोर्टर की Donkey रिपोर्टिंग, वीडियो हुआ वायरल

BT Bureau

ट्रंप ने पाकिस्तानी सैन्य प्रशिक्षण पर लगाई रोक

Satya Prakash

अबू धाबी का ऐतिहासिक फैसला, अदालतों में अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी होगी आधिकारिक भाषा

S N Tiwari

Leave a Comment