Breaking Tube
  • Home
  • International
  • हाफिज सईद के साथ पाकिस्तान की इमरान सरकार, हटा संगठनों पर लगा बैन
International

हाफिज सईद के साथ पाकिस्तान की इमरान सरकार, हटा संगठनों पर लगा बैन

Hafiz Saeed

पाकिस्तान की इमरान सरकार में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन प्रतिबंधित संगठनों की लिस्ट से बाहर हो गए हैं। खबर है कि इन संगठनों को संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव के तहत प्रतिबंधित करने वाला राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश निष्प्रभावी होने की वजह से ऐसा हुआ है।

 

हाफिज के वकील ने न्यायालय को दी जानकारी

जानकारी के  मुताबिक, इसी साल फरवरी में पूर्व राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को प्रतिबंधित समूह घोषित करने के लिए आतंकवाद निरोधी अधिनियम, 1997 को संशोधित करते हुए अध्यादेश लागू किया था।

 

Also Read : शिवपाल की विधानसभा सदस्यता खत्म नहीं करेंगे अखिलेश, बताया ये बड़ा कारण

 

बता दें कि आतंकी हाफिज सईद ने एक याचिका दाखिल की थी जिसकी गुरुवार को सुनवाई हो रही थी। सुनवाई के दौरान हाफिज के वकील ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय को सूचित किया कि राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश निष्प्रभावी हो गया है और उसकी अवधि को कभी नहीं बढ़ाया गया।

 

अध्यादेश को दी गई थी चुनौती

खबर के मुताबिक, याचिकाकर्ता ने उस अध्यादेश को चुनौती दी थी जिसके तहत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् की निगरानी सूची में शामिल करने के लिए उसके संगठनों को प्रतिबंधित किया गया।

 

Also Read : Audio: ‘नारी सम्मान’ भूला ‘योगी का विधायक’, शराब व्यापारी को दी बेटी से बलात्कार की धमकी

खबर में बताया गया कि सईद ने याचिका में तर्क दिया कि उसने 2002 में जमात उद दावा को स्थापित किया था और प्रतिबंधित संगठन लश्कर-ए-तैयबा के साथ सारे संबंध खत्म कर लिए थे लेकिन प्रतिबंधित संगठन के साथ पूर्व में उसके संबंध को लेकर भारत जेयूडी की लगातार निंदा करता रहता है।

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

फ्रांस को पछाड़, भारत बना दुनिया की छठी आर्थिक महाशक्ति

Ambuj

इंडोनेशिया नाव दुर्घटना में 29 की मौत 41 लापता

Aviral Srivastava

अमेरिका में मोहन भागवत बोले- हिंदू किसी का विरोध करने के लिये नहीं जीते, हम कीड़ों को भी जीने देते हैं

Aviral Srivastava

Leave a Comment