Breaking Tube
International

भारत के इस कदम से पाक में आ सकती है बाढ़, हो जायेगा इतना पानी कि डूब जाएंगे पाकिस्तानी

Flood Alerts for Pakistan Rivers after India releases 24 thousand cusecs of water

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटने के बाद से पाकिस्तान (Pakistan) में कुछ ज्यादा ही सितम होने लगे है. पाक के सिंधु जल आयोग (Pakistan Indus Water Commission) ने कहा है कि ‘भारत ने सतलज नदी में अब तक 24 हजार क्यूसेक पानी छोड़ दिया है, जिससे बाढ़ की आशंका पैदा हो गई है. इसके साथ ही इस्लामाबाद ने सिंधु जल संधि पर भारत के रुख पर गहरी चिंता व्यक्त की है और कहा है कि वह संधि में प्राप्त अपने अधिकारों की रक्षा के लिए सभी विकल्प अपनाएगा’.


Also Read: पाक पीएम की पूर्व पत्नी का बड़ा आरोप, PM मोदी को खुश करने के लिए इमरान खान ने की Article 370 की डील


अपने एक बयान में पाकिस्तानी जल संसाधन मंत्री फैजल वावडा ने कहा कि संधि के तहत भारत, पाकिस्तान में बाढ़ आने की पूर्व सूचना देने के लिए बाध्य है. लेकिन बार-बार आग्रह करने और याद दिलाने के बावजूद उसने संधि के तहत काम नहीं किया है’. पाकिस्तान जल आयोग के सूत्रों के मुताबिक सोमवार शाम 07:00 बजे पाकिस्तान को प्राप्त आंकड़ों से पता चला है कि भारत ने सतलज नदी में 24 हजार क्यूसेक पानी छोड़ दिया है. साथ ही हेराइक और फिरोजपुर बैराज में एक लाख 50 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया. वहीं सतलज नदी में लगभग 2 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा सकता है’.


राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के एक प्रवक्ता ब्रिगेडियर मुख्तार अहमद ने कहा कि ‘भारत ने संबद्ध अधिकारियों को जानकारी दिए बिना सतलज नदी में लगभग 2 लाख क्यूसेक पानी छोड़ दिया है. भारत के पंजाब से सतलज नदी से छोड़ा गया पानी पाकिस्तान में मंगलवार अपराह्न् किसी भी समय पहुंच सकता है और बाढ़ का कारण बन सकता है’.


Also Read: Video: जब सांसद के गंजे सिर पर PM मोदी फिराने लगे हाथ, ठहाकों से गूंज उठी भूटान यूनिवर्सिटी


वहीं, फैजल वावडा ने कहा कि ‘सिंधु जल पर पाकिस्तानी आयुक्त ने अपने भारतीय समकक्ष से अंतर्राष्ट्रीय वादा नहीं निभाने पर गहरी चिंता व्यक्त की है. संधि के तहत भारत से नियमित तौर पर उनके माध्यम से ही संपर्क किया जाता है. साल 1960 की संधि पाकिस्तान तथा भारत के बीच तथा क्षेत्र में शांति का उपाय थी. लेकिन भारत अगर संधि की शर्ते पूरी नहीं करेगा तो संधि पाकिस्तान को न्याय दिलाने के लिए सशक्त है’.


साथ ही उन्होंने कहा कि ‘पाकिस्तान जागरूक है और संधि द्वारा प्रदत्त सभी विकल्पों का उपयोग करेगी. अनुच्छेद 12 के तहत, जब तक दोनों देश मिलकर संधि में कोई संशोधन या बदलाव नहीं करते तब तक न तो भारत और न ही पाकिस्तान इस संधि को तोड़ सकता है’.


सिंधु जल पर पाकिस्तान के स्थाई आयुक्त सैयद मेहर अली शाह ने डॉन को बताया कि वह इस मुद्दे पर अपने भारतीय समकक्ष से लगातार बात कर रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि भारत 4 प्रमुख वचनों बाढ़ संबंधी जानकारी, साल 2014 से लंबित किशनगंगा पनबिजली संयंत्र के दौरे, कुछ वार्षिक बैठकों और नई परियोजनाओं की जानकारी देने- को निभाने में अनिच्छुक है.


Also Read: Video: लंदन में तिरंगे का अपमान कर रहे पाकिस्तानियों से भिड़ गयी पत्रकार, सोशल मीडिया पर लोगों ने किया सलाम


गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि ‘जल मुद्दों पर पाकिस्तान के पहले संपर्क अधिकारी के तौर पर कोई कदम उठाने से पहले वह इन 4 मुद्दों पर भारत को बार-बार अवगत करा रहे हैं. कसूर जिले में गंडा सिंह वाडा गांव में जलस्तर फिलहाल लगभग 16 से 17 फुट हो गया है तथा अभी 24 हजार क्यूसेक पानी गंडा सिंह वाला में प्रवेश कर रहा है. सेना सहित सभी संघीय तथा प्रांतीय इकाइयां किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं. पंजाब प्रांत के प्रांतीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (PDMA) ने सतलज, ब्यास और रावी नदियों में बाढ़ आने की संभावना जताते हुए चेतावनी जारी कर दी है’.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

पाकिस्तान: महिला यात्री ने शौचालय समझकर खोला हवाई जहाज का आपातकालीन द्वार, आनन फानन में कराई गयी इमरजेंसी लैंडिंग

S N Tiwari

शर्मनाक! पाकिस्तान में भारतीय हाई कमिशन की ओर से आयोजित इफ्तार पार्टी में मेहमानों के साथ हाथापाई

BT Bureau

एलियंस के मौजूद होने पर वैज्ञानिकों का बड़ा खुलासा, आज भी स्पेस में हैं @#$..

Satya Prakash