Breaking Tube
International

भारत विरोधी ‘2020 सिख रेफरेंडम’ खालिस्तानी ऐप को Google ने प्लेस्टोर से हटाया

Google removes anti-India 2020 Sikh Referendum Khalistani app from PlayStore

भारत विरोधी खालिस्तानी ऐप ‘2020 सिख रेफरेंडम’ को गूगल (Google) ने प्लेस्टोर (Playstore) से हटा दिया है. ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि कुछ अलगाववादी सिख संगठन इस ऐप के माध्यम से पंजाब में लोगों को भारत के खिलाफ भड़काने की कोशिश कर रहे थे. जिसके बाद पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह (CM Captain Amarinder Singh) ने गूगल से अपने प्लेस्टोर से ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप हटाने की मांग की थी.


Related image

Also Read: Photos: फ्री में Petrol लेने के लिए कलरफुल बिकिनी पहनकर पंप में दिखे पुरुष, एक शख्स ने कहा- मुफ्त पेट्रोल के लिए कपड़े भी उतार दूंगा


बता दें पंजाब के सीएम ऑफिस के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए कहा कि ‘गूगल ने अपने प्लेस्टोर से ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप को हटा दिया है. अब गूगल प्लेस्टोर पर ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप मौजूद नहीं है. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गूगल से अपने प्लेस्टोर से ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप हटाने के लिए कहा था और गूगल ने उनकी मांग पर ही कार्रवाई करते हुए ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप को प्लस्टोर से हटा दिया है’.


Image result for 2020 सिख रेफरेंडम

Also Read: पाकिस्तान: टमाटर को चोरों से बचाने के लिए तैनात किए गए बंदूकधारी, कीमत पहुंची 300 के पार


उधर, इसके अलावा एक वेबसाइट yes2khalistan.org को भी धड़ल्ले से इंटरनेट पर चलाया जा रहा था. जब हमनें ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप और वेबसाइट yes2khalistan.org की जांच करवाई तो हमें पता चला कि इस ऐप और वेबसाइट के माध्यम से अलगाववादी सिख फॉर जस्टिस संगठन लोगों को भड़काने के साथ-साथ पंजाब के वोटरों का डेटा भी चुरा रहा था. गूगल ने अब अपने प्लेस्टोर से ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप को हटा दिया है और वेब सर्वर से वेबसाइट yes2khalistan.org को भी ब्लॉक कर दिया गया है.


इससे पहले गूगल को अपने प्लेस्टोर पर ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप रखने के लिए सोशल मीडिया पर फजीहत झेलनी पड़ी थी. सोशल मीडिया पर लोगों ने गूगल को जमकर फटकार लगाई थी. ट्विटर पर गूगल के खिलाफ नाराजगी जताते हुए लोगों ने गूगल को सलाह दी थी कि गूगल को भारत विरोधी एजेंडे में शामिल होने से बचना चाहिए.


Image result for 2020 सिख रेफरेंडम

Also Read: इस पाक नेता ने लगाई पीएम मोदी से मदद की गुहार, कहा- मुझे भारत में शरण दे दो और मेरे बदले ओवैसी को पाकिस्तान भेज दो


जानें ‘2020 सिख रेफरेंडम’ के बारे में…

दरअसल, कुछ अलगाववादी सिख संगठन भारत से पंजाब को अलग करने की मांग कर रहे हैं. ये संगठन दुनियाभर में भारत के ख़िलाफ सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार कर रहे हैं कि साल 2020 में एक जनमत संग्रह (रेफरेंडम) होने वाला है, जिससे तय होगा कि सिखों को एक अलग देश मिलना चाहिए या नहीं. इसी भारत विरोधी एजेंडे का नाम सिख अलगाववादी संगठनों ने ‘2020 सिख रेफरेंडम’ रखा है. गूगल प्ले स्टोर में ‘2020 सिख रेफरेंडम’ ऐप एक फ्री थी. इस ऐप के जरिए लोगों को भारत के खिलाफ चल रहे कैंपेन में जोड़ा जा रहा था.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का दावा, दुनिया से हो चुका है ISIS का सफाया

admin

अटल जी के सम्मान में मॉरीशस सरकार का ऐलान, सबसे बड़ा साइबर टावर कहलाएगा ‘अटल बिहारी वाजपेयी टावर’

BT Bureau

नीरव मोदी को ब्रिटेन कोर्ट से एक और झटका, अदालत ने खारिज की जमानत याचिका

BT Bureau