International

अबुधाबी: अप्रैल में रखी जाएगी पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला, पीएम मोदी का रोल है अहम

ABUDHABI

एक रिपोर्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक इस साल अप्रैल में दुबई के अबुधाबी में पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की राजधानी में मंदिर बनाने की योजना को साल 2015 में भारत के पीएम नरेंद्र मोदी के यहां के पहले दौरे के दौरान अबुधाबी सरकार द्वारा मंजूरी दी गई थी. गल्फ न्यूज की खबर में कहा गया कि विश्वव्यापी हिंदू धार्मिक और नागरिक संगठन, बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था द्वारा मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. इसमें कहा गया कि मंदिर की आधारशिला रखे जाने का समारोह 20 अप्रैल को होगा. जिसकी अध्यक्षता बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के मौजूदा गुरु और अध्यक्ष महंत स्वामी महाराज द्वारा की जाएगी. बता दें कि आध्यात्मिक गुरु 18 से 29 अप्रैल के बीच UAE में रहेंगे. अबुधाबी के वली अहद (क्राउन प्रिंस) शेख मोहम्मद बिन जाएद अल नहयन ने मंदिर के निर्माण के लिये 13.5 एकड़ जमीन तोहफे में दी है. UAE सरकार ने इतनी ही जमीन मंदिर परिसर में पार्किंग सुविधा के निर्माण के लिये दी है.


Also Read: सऊदी है सुन्नी मुस्लिम देश और बच्चा था शिया, माँ के सामने मासूम का सर कलम किया


अबुधाबी की आबादी का लगभग 30 प्रतिशत हिस्‍सा भारतीय

अबुधाबी में तकरीबन 30 लाख भारतीय रहते हैं. जो कि वहां की आबादी का लगभग 30 प्रतिशत हिस्‍सा है. वहां की अर्थव्‍यवस्‍था को संवारने में इस आबादी का बड़ा योगदान है. साधन-संपन्‍न इतनी बड़ी आबादी होने के बावजूद राजधानी अबुधाबी में कोई हिंदू मंदिर अभी तक नहीं है. इसकी तुलना में दुबई में 2 मंदिर और 1 गुरुद्वारा हैं. इसलिए अबुधाबी के स्‍थानीय हिंदुओं को पूजा या शादी जैसे समारोहों के लिए दुबई जाना पड़ता है. इस‍के लिए तकरीबन 3 घंटे लंबी यात्रा उनको तय करनी पड़ती है. इन दिक्‍कतों को देखते हुए UAE सरकार ने इस मंदिर के लिए जमीन देने का निर्णय किया था.


Also Read: अबू धाबी का ऐतिहासिक फैसला, अदालतों में अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी होगी आधिकारिक भाषा


भारतीय शिल्‍पकार करेंगे इस मंदिर का निर्माण

इस मंदिर का निर्माण भारतीय शिल्पकार कर रहे हैं और यह साल 2020 में पूरा होगा. बोचासनवासी श्री अक्षर पुरषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (BAPS) के प्रवक्ता ने बताया कि पश्चिम एशिया में पत्थरों से बना यह प्रथम हिंदू मंदिर होगा. ट्रस्ट के एक सदस्य ने बताया कि यह दिल्ली में बने बीएपीएस मंदिर और न्यू जर्सी में बन रहे मंदिर की प्रतिकृति होगी. इस मंदिर की संरचना, निर्माण और प्रबंधन करने वाली बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था के एक प्रवक्ता ने कहा- ‘मंदिर में इस्तेमाल होने वाले पत्थरों पर नक्काशी का काम भारत में शिल्पकार के जरिए किया जाएगा और फिर बाद में उसे UAE में लाकर मंदिर को तैयार किया जाएगा. यूएई और भारत सरकार के द्वारा इस मंदिर के निर्माण से लेकर इसके प्रबंधन तक का काम दिए जाने पर बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था खुद को सम्मानित और कृतज्ञ महसूस कर रही है’.


Also Read: इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अराजकता न हो इसलिए अखिलेश को रोका गया: सीएम योगी


जाने इस मंदिर की खासियत

अबुधाबी से 30 मिनट की दूरी पर हाईवे से सटे ‘अबू मुरेखा’ नामक जगह पर ये हिंदू मंदिर बनेगा. इस मंदिर में शिव, कृष्‍ण और अयप्‍पा भगवान की मूर्तियां होंगी. अयप्‍पा को विष्‍णु भगवान का एक अवतार माना जाता है और केरल में इनकी पूजा होती है. इसके साथ ही इस मंदिर परिसर में एक खूबसूसरत बगीचा और मन को मोहने वाला वॉटर फ्रंट होगा. इस मंदिर परिसर में पर्यटक केंद्र, प्रार्थना सभा के लिए स्थान, प्रदर्शनी और बच्चों के खेलने की जगह, संबंधित विषयों से जुड़े बगीचे, वॉटर फ्रंट, फूड कोर्ट, किताब और गिफ्ट की दुकानें होंगी. इस मंदिर के निर्माण की मुहिम चलाने वाले अबुधाबी के जाने-माने भारतीय कारोबारी बी.आर. शेट्टी है. वो ‘यूएई एक्‍सचेंज’ नामक कंपनी के एमडी और सीईओ हैं.


Also Read: इलाहाबाद विश्वविद्यालय का सामने आया पत्र, एक दिन पहले ही अखिलेश को आने से किया था मना


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


50 total views, 1 views today

Related news

अगर ऐसा हुआ तो 3 महीने के भीतर ही भारत लाया जा सकता है विजय माल्या

BT Bureau

‘चायवाले’ को जनता जनता ने चुन लिया सांसद, पाकिस्‍तानी सांसद निकला ‘करोड़पति’

BT Bureau

Oscar 2019: नैशनल अवॉर्ड विनर फिल्म ‘विलेज रॉकस्टार्स’ को ऑस्कर 2019 में मिली एंट्री

Satya Prakash

Leave a Comment