International

अबू धाबी का ऐतिहासिक फैसला, अदालतों में अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी होगी आधिकारिक भाषा

Abu Dhabi Justice Department

न्याय तक पहुंच बढ़ाने के लिहाज से ऐतिहासिक फैसला लेते हुए अबू धाबी ने अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी को अपनी अदालतों में तीसरी आधिकारिक भाषा के रूप में शामिल कर लिया है. अबू धाबी न्याय विभाग (एडीजेडी) ने शनिवार को कहा कि उसने श्रम मामलों में अरबी और अंग्रेजी के साथ हिंदी भाषा को शामिल करके अदालतों के समक्ष दावों के बयान के लिए भाषा के माध्यम का विस्तार कर दिया है.


Also Read: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का दावा, दुनिया से हो चुका है ISIS का सफाया


मुकदमे की प्रक्रिया सीखने में होगी मदद

शनिवार को अबू धाबी न्याय विभाग (एडीजेडी) ने कहा कि उसने श्रम मामलों में अरबी और अंग्रेजी के साथ हिंदी भाषा को शामिल करके अदालतों के समक्ष दावों के बयान के लिए भाषा के माध्यम का विस्तार कर दिया है. इसका मकसद हिंदी भाषी लोगों को मुकदमे की प्रक्रिया, उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में सीखने में मदद करना है.


Also Read: 21 हजार करोड़ में 15 चिनूक और 22 अपाचे की हुई डील, भारतीय सेना को मिला पहला चिनूक हेलीकॉप्टर


न्यायिक सेवाओं को बढ़ावा देना है मकसद

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार संयुक्त अरब अमीरात की आबादी का करीब दो तिहाई हिस्सा विदेशों के प्रवासी लोग हैं. संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय लोगों की संख्या 26 लाख है जो देश की कुल आबादी का 30 प्रतिशत है और यह देश का सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है. एडीजेडी के अवर सचिव युसूफ सईद अल अब्री ने कहा कि दावा शीट, शिकायतों और अनुरोधों के लिए बहुभाषा लागू करने का मकसद प्लान 2021 की तर्ज पर न्यायिक सेवाओं को बढ़ावा देना और मुकदमे की प्रक्रिया में पारदर्शिता बढ़ाना है.


Also Read: प्रियंका का मिशन यूपी, 3 दिन में 40 घंटे तक और 42 लोकसभा सीटों के लिए मैराथन बैठक


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


52 total views, 2 views today

Related news

चीन को लग सकता है सदमा, मालदीव के नए राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने कहा, ‘सबसे पहले भारत’

BT Bureau

ईस्टर पर श्रीलंका में 6 सीरियल ब्लास्ट, चर्च समेत 6 जगह धमाके, 160 की मौत, 500 घायल

BT Bureau

NASA की ऐतिहासिक खोज, चन्द्रमा पर भी जीवन की संभावना निश्चित

Satya Prakash

Leave a Comment