International Technology Travel

नासा मंगल पर भेजेगा महिला अंतरिक्ष यात्री, स्पेसवॉक की हो रही तैयारी

अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक योजना बनाई है जिसके तहत वो पहली बार मंगल पर एक महिला को भेजना चाहता है. हालांकि नासा के प्रशासक व्हाइल ब्राइडेनस्टीन ने इसके बारे में अभी तक किसी का नाम नहीं सामने नहीं रखा है. व्हाइल ब्राइडेनस्टीन का कहना है कि, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी की आगामी प्रॉजेक्ट्स में महिलाओं को आगे रखना चाहता है, और इसी लिहाज से यह फैसला लिया गया है. पहली बार चंद्रमा पर किसी महिला के उतरने पर ब्राइडेनस्टीन ने कहा, ‘निश्चित तौर पर, बल्कि चंद्रमा पर पहला अगला व्यक्ति एक महिला हो सकती है.’


Also Read: इस शख्स बनाया ऐसा क्रांतिकारी डिवाइस जिसके बाद शराब पीकर नहीं चला पाएंगे गाड़ी, तुरंत भेजेगा सबको संदेश


नासा में अभी 34 फीसदी महिलाएं


बता दें कि नासा में फिलहाल 34 फीसदी महिला कर्मी हैं. 1978 में पहली बार अंतरिक्ष एजेंसी में छह महिलाओं को शामिल किया गया था. ब्राइडेनस्टाइन ने कहा नासा में काम कर रही महिलाओं बहुत प्रतिभा है. साथ ब्राइडेनस्टाइन ने कहा कि हम इसी तर्ज पर पहला स्पेसवॉक करने जा रहे जिसमें महिलाएं शामिल होंगी. यह महीना बेशक राष्ट्रीय महिला माह है. इसलिए नासा यह निश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि हमारे पास प्रतिभा का विस्तृत एवं विविधता भरा समूह हो.


Also Read: अब हवा में होगी यात्रा, बोइंग कंपनी ने किया उड़ने वाली कार का सफल परीक्षण


विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी रेडियो कार्यक्रम में मीडिया से बात करते हुए ब्राइडेनस्टीन ने कहा, ‘यह भी सच है कि मंगल पर पहला शख्स भी एक महिला हो सकती है.’ नासा ने हाल ही में घोषणा की थी कि इस महीने के अंत तक उसका पहला ऐसा स्पेसवॉक तैयार हो जाएगा जिसमें सभी महिलाएं होंगी और अंतरिक्ष यात्री एने मैकक्लेन एवं क्रिस्टीना कोच को अंतरिक्ष की सैर का मौका मिलेगा.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )

120 total views, 3 views today

Related news

Pulwama Attack: अमेरिका, रूस सहित सभी बड़े देशों ने की पुलवामा आतंकी हमले की कड़ी निंदा

Shivam Jaiswal

भारत को NSG की अब नहीं हैं जरूरत, चीन को लगा झटका

Satya Prakash

अमेरिका-चीन की लड़ाई में भारत को झेलना पड़ सकता है भारी नुकसान

Satya Prakash

Leave a Comment