Breaking Tube
International

हताश पाकिस्तान ने लगाई मीडिया पर लगाम, टीवी चैनलों पर नहीं होगा विशेष कार्यक्रमों का प्रसारण

Special Programs will not be Broadcast on Pakistan TV Channels on Bakrid

मोदी सरकार (Modi Government) द्वारा जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान (Pakistan) की बौखलाहट साफ देखी जा रही है. समझौता एक्सप्रेस, भारतीय फिल्मों और व्यापार संबंधों पर रोक के बाद अब पाक ने एक और नई चाल चली है. इस बार पाकिस्तान ने कश्मीर और कश्मीरी लोगों के नाम का इस्तेमाल किया है. उसने पाकिस्तानी चैनलों पर प्रसारित होने वाले बकरीद (Bakrid) के विशेष कार्यक्रमों पर रोक लगा दी है. पाकिस्तान मीडिया नियामक प्राधिकरण (Pakistan Media Regulatory Authority) ने मीडिया आउटलेट्स से कहा है कि ‘बकरीद पर विशेष कार्यक्रमों का प्रसारण ना करें. ऐसा इसलिए क्योंकि ना केवल पाकिस्तान बल्कि इससे कश्मीरी लोगों की भावनाएं भी आहत हो सकती हैं’.


Also Read: कंगाल होने की कगार पर पाकिस्तान, लोगों ने कहा- ईद में इमरान खान हमें घास खिलाना चाहते हैं?


दरअसल, पाकिस्तान मीडिया नियामक प्राधिकरण ने शनिवार को एक अधिसूचना में कहा है कि ‘कश्मीर के साथ एकजुटता को देखते हुए बकरीद को धार्मिकता के रूप में सादगी से मनाया जाएगा. इसलिए यह अनुरोध किया जाता है कि कोई विशेष कार्यक्रम (पहले से रिकॉर्ड या नियोजित लाइव) न हो. बकरीद के जश्न के रूप में प्रसारित होने के कारण न केवल हमारे राष्ट्र बल्कि कश्मीर के लोगों की भावनाओं को भी चोट पहुंच सकती है’.


हताश पाकिस्तान ने टीवी चैनलों के विशेष कार्यक्रमों पर लगाई रोक

Also Read: पाकिस्तान में जमकर हो रही इमरान खान की फजीहत, लोग लगा रहे ‘मोदी से तू डरता है और मरियम से तू लड़ता है’ के नारे


15 अगस्त को होगा पाक का ‘काला दिवस’

अधिसूचना में कहा गया है कि ‘पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को बहादुर कश्मीरियों के साथ एकजुटता जताते हुए मनाया जाएगा. साथ ही भारत के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को काला दिवस के रूप में मनाया जाएगा और राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा. अधिसूचना में टीवी चैनलों को उस दिन ‘अपने लोगो ब्लैक एंड व्हाइट करने’ की सलाह दी गई है’.


Also Read: व्यापारिक रिश्ते तोड़ पाक ने अपने पैर पर मारी कुल्हाड़ी! अब प्याज, टमाटर के लिए ताक रहा भारत का मुंह


बता दें कि इससे पहले 8 अगस्त को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक ने समाचार चैनलों को अपने टॉक शो में किसी भी भारतीय सेलिब्रिटी, राजनेता, पत्रकार और विश्लेषकों को आमंत्रित नहीं करने का निर्देश दिया था. गौरतलब है कि यह कदम भारत सरकार की ओर से 5 अगस्त को किए गए घोषणा के बाद आया है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

हैकर्स के निशाने पर अमेरिकी मीडिया, घरों में टाइम से नहीं पहुंचा अखबार

BT Bureau

ईराक: खुदाई के दौरान मिली भगवान श्रीराम और हनुमान की 6 हजार साल पुरानी प्रतिमाएं, भारत सरकार को दी जानकारी

S N Tiwari

धोखेबाज़ पाकिस्तान को मिलेगा उचित जवाब, हमने संघर्ष विराम का किया सम्मान

admin