Breaking Tube
Lifestyle

पेट्स के साथ खेलने से तनाव में आती है कमी, शोध में खुलासा

लाइफस्टाइल: आज की तकनीकी दुनिया में जहाँ हर चीज में बेहतर होती जा रही है, वहीँ मानसिक तनाव बढ़ना आम बात है, लेकिन कभी-कभी यह तनाव विद्यार्थियों को काफी हद तक स्ट्रेस और डिप्रेशन का शिकार बना देता है. क्योंकि छात्रों पर पढ़ाई और परीक्षा का इतना दबाव होता है की वो इन सब चीजों से उभर नहीं पाते है. शोध में यह खुलासा हुआ है कि कुत्ते या बिल्ली पालने से विद्यार्थियों को तनाव से राहत देने वाले शारीरिक लाभों के साथ-साथ उनके मूड में सुधार लाया जा सकता है. जर्नल एईआरए ओपन में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, कई विश्वविद्यालयों ने ‘पेट योर स्ट्रेस अवे’ कार्यक्रम चलाया है, जहां विद्यार्थी आकर कुत्ते और बिल्लियों से बात कर सकते हैं, उनके साथ खेल सकते हैं.


विदेश की कई बड़ी रिसर्च में पता चला है की, “सिर्फ दस मिनट से महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है. हमारे अध्ययन में जिन विद्यार्थियों ने कुत्ते और बिल्लियों संग समय बिताया उनमें कॉर्टिसोल हॉरमोन में उल्लेखनीय कमी पाई गई. यह तनाव पैदा करने वाला एक प्रमुख हॉरमोन है.”


Related image

Image result for cats

इस अध्ययन में 249 कॉलेज विद्यार्थियों को शामिल किया गया जिन्हें चार समूहों में बांट दिया गया. इनमें से पहले समूह को कुत्ते और बिल्लियों संग दस मिनट का समय बिताने को दिया गया. परीक्षण में पाया गया कि जिन विद्यार्थियों ने जानवरों संग वक्त बिताया, इस मुलाकात के बाद उनके लार में कॉर्टिसोल बहुत कम पाया गया.


Also Read: अगर आप भी हैं रोज-रोज के बदन दर्द और कमजोरी के शिकार, तो करें ये काम, जल्द मिलेगा आराम


एक रिसर्चर ने कहा कि हम बस यह देखना चाहते थे कि इस तरह के कार्यकलाप से तनाव में कमी आती है या नहीं और इससे तनाव में कमी आई. यह काफी रोमांचक है क्योंकि हो सकता है कि स्ट्रेस हॉरमोन में कमी वक्त के साथ शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को महत्वपूर्ण लाभ पहुंचाए.


Also Read: व्यायाम के सही तरीके से कम होगा वजन, जानें वर्कआउट करने का सही समय और फायदे


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

डिप्रेशन सेहत के लिए है हानिकारक, भूलने की गंभीर बीमारी के साथ दिमाग वक्त से पहले हो जाता है बूढ़ा

admin

रहस्यमयी खुलासा भूत ने बैंक अकाउंट से किया 460 करोड़ रुपये का ट्रांसेक्शन

Satya Prakash

महापर्व नहाय-खाय ‘छठ’ पूजा का जानिए शुभ मुहूर्त और मान्यताएं

Satya Prakash