Breaking Tube
  • Home
  • Lifestyle
  • महापर्व नहाय-खाय ‘छठ’ पूजा का जानिए शुभ मुहूर्त और मान्यताएं
Lifestyle Social

महापर्व नहाय-खाय ‘छठ’ पूजा का जानिए शुभ मुहूर्त और मान्यताएं

पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में खासतौर पर मनाया जाने वाला त्यौहार छठ पूजन की शुरुआत हो चुकी है. पूर्वांचल के इस ‘नहाय-खाय’ में सूर्यदेव की आराधना एवं पूजन होता है. यह पर्व चार दिन तक चलता है. नहाय खाय के अगले दिन खरना होगा जिसे इस महापर्व का दूसरा और सबसे कठिन चरण माना जाता है. अथर्ववेद के अनुसार भाष्कर की मानस बहन षष्ठी देवी बच्चों की रक्षा करती हैं. ऐसा माना जाता है कि षष्ठी देवी प्रकृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं तथा ये देवी भगवान विष्णु द्वारा रची गई एक माया हैं जो बच्चों की रक्षक हैं.

 

Image result for chhath puja

 

चार दिन तक चलने वाला यह महापर्व बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश से निकलकर अन्य राज्यों में तेजी से बढ़ रहा है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में यमुना पर कई जगह सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. खरना में वृत रखने वाले शाम को पूजा के बाद खीर और रोटी का प्रसाद ग्रहण करते हैं जिसके बाद निर्जला उपवास शुरू हो जाता है. नहाय खाय में लौकी की सब्जी को अनिवार्य माना जाता है. इसे बनाने में खास ध्यान रखा जाता है. इस दौरान दाल, सब्जी आदि में लहसुन प्याज आदि वर्जित हैं.

 

Image result for chhath puja

 

घी और चने की सब्जी शुद्ध देशी घी में बनाई जाती है, जिसे परिवार के अन्य लोग प्रसाद के तौर पर ग्रहण करते हैं. नहाय खाय के दिन प्रसाद बनाने के लिए गेहूं को धोया और सुखाया जाता है. इसके बाद इससे आटा तैयार किया जाता है. इसके बाद इससे आटा तैयाय कर खरना के लिए रोटी और छठ के लिए ठेकुआ बनाया जाता है. इसे बनाते समय पवित्रता और शुद्धता का खास ख्याल रखा जाता है. खरना के बाद व्रती बिना अन्न-जल के 24 घंटे से ज्यादा समय तक भगवान भास्कर और माता षष्ठी की आराधना करते हैं.

 

Also Read : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ चेन्नई में पटाखे जलाने पर 700 लोगों पर केस दर्ज

 

Image result for thekuwa

 

इस बार सुबह 6 बजकर 27 मिनट नहाय खाय के दिन सूर्योदय का समय है. नहाय खाय के दिन गंगा स्नान शुभ माना जाता है. इस दिन पूरे घर की सफाई कर किसी नदी या तालाब के पानी में नहाकर साफ वस्त्र पहने जाते हैं. भोजन सात्विक ही बनाया जाता है. छठ का व्रत रखने वाले पुरुष या महिला घी में चने की दाल और लौकी की सब्जी बनाते हैं. खाने में कद्दू और अरवा चावल बनाना अनिवार्य है.

 

Image result for chhath puja

 

Also Read : ये महिला पीएम मोदी को मानती है भगवान, इस दीवाली करेगी पूजा

 

 

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

रायबरेली: लोगों के सामने ही SDM ने टीचर पर कर दी थप्पड़ों की बौछार, Video वायरल

Jitendra Nishad

फैजाबाद को नरेंद्रमोदी नगर, फतेहपुर को अमितशाह नगर, सीएम योगी से की गयी इन 18 शहरों के नाम बदलने की पैरवी

BT Bureau

यूपी : कांवड़ यात्रा में बवाल के डर से पलायन कर गई यहां की आधी मुस्लिम आबादी

Aviral Srivastava

Leave a Comment