Breaking Tube
Crime

मेरठ: पहले खुद ही तोड़ी आंबेडकर प्रतिमा और फिर करने लगे बवाल, पुलिस की सूझबूझ से दंगा कराने की बड़ी साजिश बेनकाब, भीम आर्मी के कार्यकर्ता गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) में आंबेडकर प्रतिमा (Ambedkar Statue) तो़ड़कर दंगा कराने की बड़ी शाजिश को बेनकाब किया गया है. मेरठ पुलिस की सूझबूझ से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों आरोपी युवक भीम आर्मी के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं. आरोपियों ने खुद भी कबूला कि वह भीम आर्मी से जुड़े हैं. इस गांव में प्रतिमा को लेकर कई बार जातीय तनाव हो चुका है, और एक बार फिर इलाके को हिंसा की आग में जलाने की शाजिश रची गयी थी लेकिन पुलिस की समझदारी ने एक बड़ी हिंसक घटना को टाल दिया.


जानकारी के मुताबिक यह पूरा मामला इंचौली थाना क्षेत्र के सिखैड़ा गांव का है. जहां चार सितंबर को अंबेडकर प्रतिमा क्षतिग्रस्त कर दी गयी. जिसके इलाके में जमकर बवाल हुआ. भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं सहित कुछ युवकों ने जोर-शोर से शासन और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और इलाके में उपद्रव काटा. घटना की जानकारी मिलते ही सीओ और एसडीएम मौके पर पहुंच गए और मामले को शांत कराया.


इस दौरान पुलिस ने ग्रामीणों से बातचीत की तो कुछलोगों ने पुलिस को बताया कि प्रतिमा गिराने के लिए रात में ऑटो में सवार होकर लोग पहुंचे थे. पुलिस ने ऑटो के नंबर के आधार पर जांच की तो आरोपियों का सुराग लग गया. पुलिस बेहद हैरान रह गयी क्योंकि जो युवक आंबेडकर प्रतिमा टूटने पर बवाल काटे हुए थे उन्होने ही मूर्ति को तोड़ा था. पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम नीरज और राकेश हैं जो सिखैड़ा गांव के ही रहने वाले हैं. धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले में सोमवार को दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है. वहीं इस मामले का तीसरा आरोपी सोनू फरार है.


एसपी देहात अविनाश पांडेय का कहना है कि गिरफ्तार और फरार आरोपी अनुसूचित जाति से हैं. पूछताछ में राकेश और नीरज ने बताया कि वह भीम आर्मी की बैठक में जाते थे, बतौर सक्रिय कार्यकर्ता काम कर रहे थे. एसपी देहात ने बताया कि आरोपियों की कॉल डिटेल और ऑटो के नंबर व अन्य साक्ष्य के आधार पर गिरफ्तारी हुई है.


1995 में जल उठा था इलाका

पुलिस के मुताबिक वर्ष 1995 में खेड़ा गांव में अंबेडकर प्रतिमा को लेकर दो पक्ष आमने-सामने आ गए थे दोनों पक्षों ने एक दूसरों के घरों में आग लगा दी थी मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए कई सालों तक सिखेड़ा में पुलिस फोर्स तैनात रहे अंबेडकर प्रतिमा का मामला कोर्ट में विचाराधीन है हाईकोर्ट ने प्रतिमा पर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दे रखा है.


Also Read: आगराः नाबालिग छात्रा के अपहरण के बाद इलाके में सांप्रदायिक तनाव, आक्रोशित लोगों ने की तोड़फोड़


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

टिंकल हत्याकांड: SSP ने बिना फॉरेंसिक रिपोर्ट रेप से कर दिया इंकार, आरोपी अपनी ही 4 साल की बेटी से कर चुका है रेप

BT Bureau

मेरठ: ISIS मॉड्यूल को हथियार सप्लाई करने वाला संदिग्ध नईम गिरफ्तार

BT Bureau

पाकिस्तान: ताहिर ने अपहरण कर नाबालिग नैना को जबरन बनाया नूर फातिमा, पीड़ित पिता ने लगाई न्याय की गुहार

S N Tiwari