Breaking Tube
Government

शामली में ठेले पर मरीज और जौनपुर के कूड़ेदान में आयुष्मान जन आरोग्य योजना के कार्ड

Ayushman Bharat Prime Minister Jan Arogya Yojna Card in Dustbin of CHC Jaunpur

भले ही आम जनमानष को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए सरकार (Government) तमाम योजनाएं चला रही हो. लेकिन, विभागीय स्तर पर बहुत ज्यादा लापरवाही बरती जा रही है. इसका अंदाजा यूपी के जौनपुर (Jaunpur) के सुईथाकला के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center) के कूड़ेदान में फेंके मिले आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (Ayushman Bharat Prime Minister Jan Arogya Yojna) कार्ड से लगाया जा सकता है.


Also Read: उत्तर प्रदेश में ठेले पर योगी सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था


वहीं, दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति एम्बुलेंस सुविधा नहीं मिलने पर मरीज को खाट सहित ठेले पर लादकर अस्पताल पहुंचाता नजर आ रहा है. यह वीडियो प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की हकीकत को बयां कर रहा है. पूरा मामला शामली (Shamli) जिले के सिविल अस्पताल है.


Also Read: योगी सरकार का एसिड पीड़ितों को तोहफा, शिक्षक भर्ती के लिए मिलेगी शैक्षिक योग्यता में 5 फीसद की छूट


दरअसल, बीते 19 जून की दोपहर को जौनपुर जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर सुबह 11:00 बजे अस्पताल के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. जैसलाल और एक कर्मचारी के बीच किसी मामले को लेकर मरीजों के सामने ही नोंक झोक होने लगी. जिसके बाद अस्पताल परिसर में भीड़ इकट्ठा हो गई. इसी दौरान किसी कर्मचारी ने अस्पताल के दूसरे तल पर स्थित एक कूड़ेदान में सैकड़ों की संख्या में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (Ayushman Bharat Prime Minister Jan Arogya Yojna) के फेंके होने की बात कही. स्वास्थ्य कार्ड फेंके मिलने की जानकारी होते ही कर्मचारियों के होश उड़ गए. साथ ही सीएचसी (CHC) परिसर में हड़कंप मच गया.


Also Read: शर्मनाक: इंदिरा नहर हादसे में बच्चों की मौत पर बिलख रहे परिजन को SDM मोहनलालगंज ने जड़ा थप्पड़, फिर सिपाहियों ने भी कूटा


किसी ने सीएमओ डॉ. रामजी पांडेय को इस बात की सूचना दी और उन्होंने डीएम को इसकी जानकारी दी. डीएम अरविंद मलप्पा बंगारी के निर्देश पर विभागीय कार्रवाई करते हुए प्रकरण पर जांच के लिए तीन सदस्यी जांच कमेटी बनाई गई है. रिपोर्ट के आधार पर प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने 2 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है.


Also Read: सीएम योगी की दो टूक, नहीं चाहिए भ्रष्ट अधिकारी, तुरंत रिटायरमेंट दो


प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशांत त्रिवेदी ने चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जैसलाल को निलंबित कर दिया है. डेंटल हाईजनिस्ट विपनेश एस कुमार सिंह का ट्रांसफर ललितपुर के लिए कर दिया गया है. ऐसे में पुलिस जांच करेगी कि पूरा मामला क्या है. उन्होंने बताया कि 2 लोगों के खिलाफ कार्रवाई शासन स्तर से हुई है.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

राजस्थान: गहलोत सरकार में सामने आया किसानों की कर्जमाफी का बड़ा घोटाला, जिन्होंने कर्ज नहीं लिया लिस्ट में उनका भी नाम

BT Bureau

बीपीएससी की मुख्य परीक्षा में छूटे छात्रों के पसीने, पेपर में आया सवाल- ‘क्या बिहार के राज्यपाल कठपुतली हैं’?

S N Tiwari

मोदी सरकार का पिछले 4 साल का रिपोर्ट कार्ड आशाओं को पूरा करेगा बजट

Ambuj