Breaking Tube
Government

ट्रेन में सफर करने वालों के लिए अच्छी खबर, खाने के डिब्बों पर लगेंगे QR Code

ट्रेन में मिलने वाले खानों में से लगातार शिकायत आने के बाद भारतीय रेल ने इसके लिए ठोस कदम उठाया है. भारतीय रेल ने कहा है कि अप्रैल महीने से ट्रेन में मिलने वाले खानों पर क्यूआर कोड स्टीकर लगाना अनिवार्य होगा. अधिकारियों का कहना है कि इस कदम से ट्रेन में मिलने वाले खानों गुणवत्ता व स्वच्छता पर उठने वाले सवालों पर विराम लगेगा, साथ ही ट्रेन में सफर करने वालों को उच्च गुणवत्ता वाला खाना मिलेगा.


Also Read: PM KISAN: किसानों के लिए खुशखबरी, 2000 रुपये की दूसरी किश्त हुई बैंक खातों में ट्रांसफर


रेलवे किचन में चस्पा होने वाले स्टीकर की मदद से खाने बनाने वाले, जांच करने वाले व ठेकेदार की जानकारियां होगी. जिसे आईआरसीटीसी के एप में पढ़ा जा सकेगा. रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुंबई, दिल्ली, इलाहाबाद, कोलकाता सहित 32 शहरों में उन्नत रेल किचन बनकर तैयार हो गए हैं. नए नियम के अनुसार खाना पकाने व ट्रेनों में आपूर्ति का काम अलग अलग कंपनी-ठेकेदार करेंगे.


Also Read: PF अकाउंट में जानिए अपना बैलेंस बस एक मिस्ड कॉल में, SMS के जरिए भी सेवा उपलब्ध


शिकायत मिलने पर होगी सख्त कार्यवाई


इस कदम के बाद ट्रेन में परोसने वाले खाने के पैकेट पर क्यूआर कोड स्टीकर लगाने से खाना पकाने वाले कंपनी, जांच करने वाले अफसर व ठेकेदार का आसानी से पता लगाया जा सकेगा. जिसके बाद व्यवस्था से खानपान में उच्च स्तर की गुणवत्ता व स्वच्छता बनी रहेगी. बासी खाने की पैकिंग अथवा किसी प्रकार की गड़बड़ी होने पर सख्त कार्रवाई की जा सकेगी.


फूड सेफ्टी सुपरवाइजर नियुक्त होंगे


रेलवे किचन में खानपान की निगरानी के लिए फूड सेफ्टी सुपरवाइजर नियुक्ति किए जाएंगे. इस कार्य को कॉमर्श एंड इंडस्ट्री मंत्रालय के नेशनल एग्रीडेशन बोर्ड फॉर टेस्टिंग एंड केलिबे्रटिंग लैबस (एनएबीएल) करेगा. सेफ्टी सुपरवाइजर खाना बनाने वाले ठेकेदार-कंपनियों के कामकाज पर निगरानी रखने के अलावा खाने की गुणवत्ता जांचेगा.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

राफेल डील : कांग्रेस का बीजेपी पर आरोप, कीमत बातने पर नहीं है कोई रोक

Aviral Srivastava

केंद्र का SC में जवाब- आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना बिल्लियों की तरह लड़ रहे थे, जरुरी था दखल

BT Bureau

7 फीट लंबी है राम की प्रतिमा, जानिए क्यों कहा जा रहा है इसे ‘कोदंड’ और क्या है इसकी खासियत

BT Bureau