Breaking Tube
Government

फ्रांस ने भारत को पहला राफेल जेट सौंपा, आइए जानते हैं क्या हैं इसकी खूबियां

फ्रांस ने मंगलवार को मेरिनेक एयरबेस पर भारत को पहला राफेल फाइटर जेट (Rafale Fighter Jet) सौंपा. हैंडिंग ओवर सेरेमनी में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) , फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले और दैसो एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपिए मौजूद थे. सेरेमनी में राजनाथ ने कहा- फेल का अर्थ आंधी होता है, मुझे उम्मीद है कि यह अपने नाम को साबित करेगा. भारत-फ्रांस के बीच हुए 59,000 करोड़ रुपए के राफेल सौदे और एयरक्राफ्ट की खूबियों को लेकर एक वीडियो प्रेजेंटेशन भी दिया गया. राजनाथ ने एयरबेस पर ही राफेल में लगे हथियारों की पूजा भी की. वे थोड़ी देर में इसमें उड़ान भरेंगे. इससे पहले राजनाथ ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से भी मुलाकात की.


भारत को मिलने वाले पहले राफेल का नाम वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया के नाम पर “आरबी 001” रखा जाएगा. भदौरिया ने ही राफेल सौदे में अहम भूमिका निभाई है. राफेल में मीटियर और स्काल्प मिसाइलें लगी हैं, इससे भारतीय वायुसेना को अद्वितीय मारक क्षमता हासिल होगी. इससे पहले राजनाथ ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से भी मुलाकात की. वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल एचएस अरोड़ा भी रक्षा मंत्री के साथ थे.


आज विजयादशमी है और भारतीय वायुसेना दिवस है. आज का दिन प्रतीकात्मक है. राफेल एयरक्राफ्ट की डिलिवरी निर्धारित समय से हो रही है और यह वायुसेना की शक्ति में वृद्धि होगी. हमारा फोकस वायुसेना को समृद्ध करने और उसे बढ़ाने पर है. उम्मीद है कि फ्रांस द्वारा सभी 36 राफेल और वेपन सिस्टम की डिलिवरी समयसीमा के भीतर की जाएगी. मैं फ्रांस के सहयोग का शुक्रगुजार हूं, जो सुरक्षा और अन्य मामलों में भी भारत के लिए महत्वपूर्ण है. विश्व के दो बड़े लोकतंत्रों के बीच सहयोग बढ़ता रहेगा और हम रक्षा के साथ पर्यावरण संतुलन स्थापित करने में भी कामयाब होंगे. थोड़ी ही देर में मैं राफेल एयरक्राफ्ट से उड़ान भरूंगा. यह हमारे लिए सम्मान की बात होगी. भारतीय सेना के बहुत से अधिकारियों ने फ्रांस में प्रशिक्षण प्राप्त किया है. मुझे उम्मीद है कि उन्हें यहां जरूरी ज्ञान और पेशेवर विशेषज्ञता हासिल होगी. आज का दिन भारत और फ्रांस के रिश्तों में ऐतिहासिक है. राफेल का अर्थ आंधी होता है, मुझे उम्मीद है कि यह अपने नाम को साबित करेगा.


राफेल जेट की खूबियां

  • राफेल एक ऐसा लड़ाकू विमान है, जिसे हर तरह के मिशन पर भेजा जा सकता है। भारतीय वायुसेना की इस पर काफी वक्त से नजर थी.
  • यह एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जा सकता है. इसकी फ्यूल कपैसिटी 17 हजार किलोग्राम है.
  • चूंकि राफेल जेट हर तरह के मौसम में एक साथ कई काम करने में सक्षम है, इसलिए इसे मल्टिरोल फाइटर एयरक्राफ्ट के नाम से भी जाना जाता है.
  • इसमें स्काल्प मिसाइल है जो हवा से जमीन पर वार करने में सक्षम है.
  • राफेल की मारक क्षमता 3700 किलोमीटर तक है, जबकि स्काल्प की रेंज 300 किलोमीटर है.
  • विमान में फ्यूल क्षमता- 17,000 किलोग्राम है.
  • यह ऐंटी शिप अटैक से लेकर परमाणु अटैक, क्लोज एयर सपॉर्ट और लेजर डायरेक्ट लॉन्ग रेंज मिसाइल अटैक में भी अव्वल है.
  • यह 24,500 किलो तक का वजन ले जाने में सक्षम है और 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान भी भर सकता है.
  • इसकी स्पीड 2,223 किलोमीटर प्रति घंटा है.

एफ-16 से आकार में बड़ा और ताकतवर है राफेल जेट

राफेल के डैनों की लंबाई 10.90 मीटर है. वहीं, एफ-16 के डैनों की लंबाई 9.96 मीटर है. राफेल की लंबाई 15.30 मीटर जबकि एफ-16 की 15.06 है. आकार में राफेल, एफ-16 से थोड़ा बड़ा है. राफेल का कुल वजन 10 टन है. वह 24.5 टन वजन के हथियार लेकर उड़ सकता है. जबकि, पाकिस्तानी एफ-16 का वजन 9.2 टन है. यह सिर्फ 21.7 टन वजन लेकर उड़ने की क्षमता रखता है.


2016 में डील हुई थी

राफेल लड़ाकू विमान डील भारत और फ्रांस की सरकार के बीच सितंबर 2016 में हुई थी. इसमें वायुसेना को 36 अत्याधुनिक लड़ाकू विमान मिलेंगे. यह सौदा 7.8 करोड़ यूरो (करीब 58,000 करोड़ रुपए) का है. कांग्रेस का दावा है कि यूपीए सरकार के दौरान एक राफेल फाइटर जेट की कीमत 600 करोड़ रुपए तय की गई थी. मोदी सरकार के दौरान एक राफेल करीब 1600 करोड़ रुपए का पड़ेगा. भारत अपने पूर्वी और पश्चिमी मोर्चों पर वायुसेना की क्षमता बढ़ाने के लिए राफेल ले रहा है. वायुसेना राफेल की एक-एक स्क्वॉड्रन हरियाणा के अंबाला और पश्चिम बंगाल के हशीमारा एयरबेस पर तैनात करेगी.


Also Read: अखिलेश बोले- 2022 में सपा करेगी वापसी, डिप्टी सीएम का पलटवार- अगले 50 साल तक UP और केंद्र में रहेगी BJP सरकार, न देखें सपना


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं को रोकने के लिए योगी सरकार लाएगी एंटी लिंचिंग लॉ, सजा और मुआवजे का होगा प्रावधान

S N Tiwari

बैंकों के NPA के लिए UPA सरकार की नीतियां ज़िम्मेदार: रघुराम राजन

BT Bureau

7th pay commission: मोदी सरकार ने बढ़ाई मौद्रिक सीमा 5 गुना, इन कर्मचारियों को मिलेगा बंपर फायदा

admin