Breaking Tube
Government

यूपी: प्रदेश के 18 लाख कर्मचारियों और शिक्षकों को बढ़ा DA देने के लिए शासन ने चुनाव आयोग से मांगी परमिशन

raised DA of state employees

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को प्रदेश के 18 लाख कर्मचारियों के डीए जारी न किए जाने के मामले में वित्त विभाग के अधिकारियों को तलब कर तत्काल डीएम भुगतान के आदेश जारी करने के निर्देश दिए। यही वजह है कि शासन ने राज्य कर्मचारियों और शिक्षकों को जनवरी से बढ़े महंगाई भत्ते (डीए) के भुगतान की अनुमति का प्रस्ताव केंद्रीय निर्वाचन आयोग को भेज दिया है।


अधिकारियों की कार्यशैली पर सीएम नाराज

दरअसल, शासन के अफसरों ने अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों के डीए भुगतान का आदेश चुनाव आचार संहिता लागू होने के पहले ही कर दिया था। लेकिन शिक्षकों और कर्मचारियों का प्रस्ताव दबा दिया था। जिसकी वजह से कर्मचारी नाराज चल रहे थे। ऐसे में जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अफसरों की इस कार्यशैली का पता चला तो उन्होंने इसे संज्ञान लिया। जिसके बाद शनिवार को वित्त विभाग के अफसरों को तलब कर नाराजगी जाहिर की गई।


Also Read: UP के 18 लाख कर्मचारियों को होली का गिफ्ट, DA बढ़ाने के प्रस्ताव को योगी सरकार ने दी मंजूरी, नकद भुगतान के निर्देश


इसके तुरंत बाद प्रदेश के 18 लाख कर्मचारियों और शिक्षकों को जनवरी से तीन फीसदी (9 से 12 फीसदी करने) बढ़े महंगाई भत्ते के भुगतान के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। फिर यह प्रस्ताव मुख्य सचिव समिति को भेजा गया था। यही समिति देखती है कि संबंधित प्रस्ताव आचार संहिता से आच्छादित है या नहीं। आचार संहिता के दायरे में न आने वाले प्रस्तावों को समिति अपने स्तर से ही कार्यवाही का आदेश दे सकती है। समिति यदि किसी प्रस्ताव को चाहे आयोग को अनुमति के लिए भेज सकती है। आयोग उस पर अंतिम निर्णय लेता है। बता दें कि पूर्व में भी आयोग वचनबद्ध देयों के भुगतान की सहमति देता रहा है। इससे प्रस्ताव को जल्दी ही मंजूरी मिलने की उम्मीद है।


पहले भी लोकसभा चुनाव के दौरान मिल चुकी है आयोग की सहमति

सूत्रों के मुताबिक मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय की अध्यक्षता वाली समिति की रविवार को हुई बैठक में समिति ने डीए भुगतान संबंधी प्रस्ताव का परीक्षण कर अपनी संस्तुति केंद्रीय चुनाव आयोग को भेज दी है। समिति ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान डीए भुगतान के लिए प्रदेश सरकार के प्रस्ताव पर आयोग की सहमति का जिक्र करते हुए प्रकरण को आचार संहिता के दायरे से बाहर का बताया है और भुगतान की अनुमति की मांग की है।


Also Read: प्रयागराज: महिला सिपाही पर जानलेवा हमला, आरोपी ने रुमाल में पत्थर बांधकर पीछे से सिर पर किया वार


शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एक-दो दिन में आयोग की सहमति मिल जाने की उम्मीद है। बढ़े डीए का भुगतान वचनबद्ध देयों में शामिल हैं और नियमित तौर पर किया जाने वाला कार्य है। ऐसे में इसकी मंजूरी में किसी तरह की अड़चन की संभावना नहीं है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी: योगी सरकार ने NGO को गाय के लिए दिए 2.5 लाख, फिर भी मर गईं 78 गायें, नहीं दर्ज हुआ किसी पर मामला

Jitendra Nishad

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम: नीतीश सरकार ने ब्रजेश ठाकुर के सभी NGO के रजिस्ट्रेशन किये रद्द

BT Bureau

दिल्ली हाईकोर्ट : राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के गाड़ियों का भी होगा रजिस्ट्रेशन

Aviral Srivastava