Breaking Tube
Education Government

यूपी: प्राइमरी-जूनियर स्कूलों में सेल्फी से देनी होगी हाजिरी, भड़के शिक्षक बोले- अविश्वास जताकर हमारा अपमान किया जा रहा, विरोध करेंगे

शिक्षा में गुणवत्ता और अनियमिततता समाप्त करने के लिए के लिए योगी सरकार सख्ती से पेश आ रही है. इसी को लेकर सरकार ने प्राइमरी स्कूल में शिक्षकों की गैरहाजिरी को लेकर सेल्फी से अटेंडेंस लगाने का आदेश दिया जिसके बाद शिक्षक ने सरकार के इस फैसले के विरोध में उतर आये हैं. उन्होंने शिक्षक दिवस को ‘शिक्षक सम्मान बचाओ दिवस’  के रूप में मनाने का एलान किया है. इतना ही नहीं 11 से 13 सितम्बर तक राज्यव्यापी विरोध की घोषणा भी की.


शिक्षकों ने ऐलान किया है कि इसके बाद भी उनकी मांगे नहीं मानी जाएंगी तो वे राजधानी में विशाल रैली करेंगे. शिक्षकों का कहना है कि यह आदेश जताता है कि सरकार शिक्षकों पर विश्वास नहीं कर रही है. जब अन्य विभागों में हाजिरी का यह तरीका नहीं है तो बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में इसे लागू करने का क्या औचित्य है. उप प्राथमिक शिक्षक संघ ने विरोध का ऐलान करते हुए कहा है कि अब कोई भी शिक्षक अपने निजी फोन से सूचनाओं का आदान-प्रदान नहीं करेगा और न ही मिड डे मील में बच्चों की संख्या भेजेगा. जो शिक्षक ब्लॉक सह समन्वयक या न्याय पंचायत समन्वयक हैं, वे अपने पद से इस्तीफा देकर शिक्षक के पद पर कार्यभार ग्रहण करके विभागीय अधिकारियों के शोषण का विरोध करें. वे शिक्षक जो बिना किसी अतिरिक्त वेतन के प्रभारी प्रधानाध्यापक के पद पर काम कर रहे हैं या किसी अन्य स्कूल का प्रभार लिए हैं तो वे तुरंत प्रभार वापस करें और शोषण का विरोध करें.


संघ के अध्यक्ष दिनेश चन्द्र शर्मा ने कहा है कि शिक्षक अपनी क्षमता से अधिक काम कर रहे हैं. ऐसे में उनके लिए अलग से हाजिरी की व्यवस्था करना, उनका अपमान है. इसके साथ ही शिक्षकों ने 12 सूत्रीय मांगपत्र भी जारी किया है. इसमें 40 दिन की गर्मी की छुट्टी की जगह इतने दिनों के उपार्जित अवकाश, महीने के दूसरे शनिवार को छुट्टी, दूरदराज और आकांक्षी जिलों के शिक्षकों को गृह जनपद में तबादला, हर स्कूल में लिपिक और चपरासी को नियुक्त करने की मांग भी की है.


शिक्षकों पर ये है सरकार का फैसला

बता दें कि हाल ही में योगी सरकार ने आदेश दिया है प्राइमरी और जूनियर हाईस्कूल के शिक्षकों को पांच सितंबर से ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करानी होगी. उन्हें पहली बार स्कूल आने पर और दूसरी बार छुट्टी होने पर अटेंडेस लगानी होगी.  इसके अलावा स्कूल में होने वाली समस्त गतिविधियों की सूचना भी ऑनलाइन ही देनी होगी. इसके लिए उन्हें अनिवार्य रूप से अपने स्मार्टफोन में ‘प्रेरणा’ एप डाउनलोड करना होगा.


एप से मु्ख्य रूप से उपस्थिति और मिड डे मील की जानकारी ली जाएगी. शिक्षक अकेले और ग्रुप में फोटो खींच कर एप्प के माध्यम से अपलोड करेंगे. मिड डे मील ग्रहण करते हुए विद्यार्थियों की फोटो भी रोज भेजनी होगी. अगर एक बार सभी विद्यार्थियों की फोटो नहीं आती है तो दो बार में अलग-अलग खींची जाएगी.


Also Read: योगी कैबिनेट विस्तार: जानें किन वजहों से गई 4 मंत्रियों की कुर्सी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

महाराष्ट्र में 17 लाख सरकारी कर्मचारी आज से हड़ताल पर

Satya Prakash

राफेल डील : कांग्रेस का बीजेपी पर आरोप, कीमत बातने पर नहीं है कोई रोक

Aviral Srivastava

सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को गैरकानूनी ठहराते हुए कहा – गे, लेस्बियन, समलैंगिक सेक्स अब अपराध नहीं

Satya Prakash