Breaking Tube
Government

यूपी में अब गाय ले जाने के लिए मिलेगा सर्टिफिकेट, गौ सेवा आयोग सुरक्षा भी देगा

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मॉब लिचिंग की घटनाओं पर रोकथाम के लिए गोसेवा आयोग के साथ मिलकर एक रोडमैप तैयार किया है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने सोमवार को बताया कि यदि कोई व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पर गोवंश ले जाता है, तो गोसेवा आयोग (Gau Seva Aayog) उसे प्रमाणपत्र देगा. सुरक्षा की जिम्मेदारी भी आयोग की ही होगी, ताकि लिंचिंग जैसी घटनाओं को रोका जा सके.


इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने गौ सेवा आयोग (Gau Seva Aayog) को यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि चोरी-छिपे चल रही गौ-तस्करी की घटनाओं को रोका जाए. पहले से चल रही गोशालाओं के निरीक्षण का भी मुख्यमंत्री ने आदेश दिया है. सीएम योगी ने गौ सेवा आयोग के अधिकायरियों को निर्देश दिया है कि गोशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने पर काम करें. इसके साथ ही उन्होंने अधिकारियों से कहा कि दो गाय रखने वाले किसानों को चारा के लिए 30 रुपए रोज के हिसाब से पैसे मुहैया कराएं.


इससे पहले जनवरी में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सूबे में बने कांजी हाउस का नाम बदलकर गौ संरक्षण केंद्र कर दिया था. उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बेसहारा एवं आवारा पशुओं को गो-संरक्षण केन्द्रों में पहुंचाने के निर्देश भी दिए थे. साथ ही राज्य में गायों के आश्रय स्थलों के वित्तीय प्रबंधन के लिए आबकारी विभाग शराब पर दो प्रतिशत ‘गौ कल्याण उपकर’ लगाने का प्रस्ताव पर भी कैबिनेट में लाया गया है.


Also Read: पुलिसकर्मियों के बर्ताव पर सख्त हुए सीएम योगी, बोले- धर्म के आधार पर किया भेदभाव तो उतरवा दी जाएगी वर्दी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मराठा आंदोलन में दूसरे प्रदर्शनकारी की मौत, मुंबई बंद, ठाणे में बस में तोड़फोड़

Aviral Srivastava

यूपी के मंत्री बोले- योगी सरकार में गोहत्या कम हुई, इसलिए तो हुई जमकर बारिश

BT Bureau

जब एक सेलिब्रेटी का डाटा लीक हो सकता है तो आम आदमी का क्यों नहीं: सुप्रीम कोर्ट

Ambuj