Breaking Tube
Police & Forces

लखनऊ पुलिस का ये अधिकारी जिसने बंद कराया वसूली का खेल, राजधानी के हर इलाके में बनाई अलग पहचान

PPS Gyan Prakash Chaturvedi in Lucknow Police

वैसे तो राजधानी लखनऊ में पुलिस का इतिहास कई रोमांचक किस्सों और जांबाजी से भरा हुआ है. साथ ही यहां के अनेक पुलिस अफसर अपने काम के बलबूते सुर्खियों में रहे और लोगों का विश्वास जीता. इनमें से एक है पीपीएस ज्ञानप्रकाश चतुर्वेदी. जिन्होंने अपराधियों की धरपकड़ से लेकर यातायात संचालन और ड्यूटी लगाने में वसूली का खेल बंद कराकर अपनी अलग पहचान बनाई.


Also Read: बदायूं: महिला सिपाहियों पर दारोगा बना रहा शारीरिक संबंध बनाने का दबाव, रूम पर जाकर की जा रही मारपीट, Video वायरल


राजधानी लखनऊ में अपर पुलिस अधीक्षक अपराध, यातायात, प्रोटोकाल और विधानसभा सुरक्षा के पद पर तैनात रहे ज्ञानप्रकाश चतुर्वेदी हर संगीन वारदात को चुनौती मानकर अपराधियों को जल्द पकड़ने में जुट जाते थे. बता दें बंथरा क्षेत्र में तिहरे हत्याकांड और माल थाना क्षेत्र में दोहरे हत्याकांड का 24 घंटे के अंदर खुलासा करके उन्होंने आला अफसरों के साथ नागरिकों का विश्वास जीता. वहीं, स्वास्थ्य विभाग में सप्लाई हुई गाड़ियों के नंबरों की छानबीन शुरू की तो एनएचआरएम (NRHM) घोटाला सामने आया.


Also Read: जालौन: ढाबे पर खाने आये सिपाही को मौत ने बनाया निवाला, हाईवे पर काल बनकर आया वाहन


कभी पान की दुकान पर तो कभी चाय के होटल में वहां के नागरिकों के साथ बातें करते नजर आने वाले ज्ञानप्रकाश चतुर्वेदी ने राजधानी के हर इलाके में अपनी पहचान बनाई. पुराने शहर में कानून व्यवस्था बिगड़ने पर अकेले मौके पर जाने में संकोच नहीं किया. विश्वविद्यालय में छात्रों के बीच छात्र, पुराने शहर में बुजुर्गों के बीच बुजुर्ग और युवाओं के बीच युवा के रूप में वार्तालाप करके लोगों को अपने साथ जोड़कर स्थिति संभाली. सभी आला अफसर इनकी सराहना करते थे.


Also Read: कन्नौज में पुलिस कर्मियों ने किया मानवाधिकार का उल्लंघन, आयोग ने DGP को थमाया नोटिस


जब अपर पुलिस अधीक्षक यातायात के पद पर तैनाती के दौरान पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाने में खेल की भनक लगी. तब चौराहे भेजे जाने पर सख्त कदम उठाते हुए साल भर का ड्यूटी चार्ट तैयार कराया. यातायात पुलिसकर्मियों को पता रहता था कि सप्ताह भर एक चौराहे पर ड्यूटी के बाद उन्हें किस तिराहे या चौराहे पर यातायात संचालन कराना है.


ज्ञानप्रकाश चतुर्वेदी

Also Read: 5 करोड़ दहेज की मांग पूरी न होने पर IPS ने पत्नी को बेरहमी से पीटा, टालमटोल कर रही पुलिस


शहर के व्यस्त चौराहों पर खुद खड़े होकर दोपहिया वाहन चालकों को सुरक्षा के प्रति जागरूक करने का अभियान चलाया. जिसके बाद हेलमेट लगाने वालों की संख्या 10 में 2 के स्थान पर 7 तक पहुंची. हेलमेट की क्लिप खुली देखकर वाहन चालक को रोकते और समझाते थे कि हेलमेट से सिर्फ सिर ढककर चालान से बचोगे, जबकि उसकी क्लिप लगाकर खुद की जान बचा सकते हो.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

संतकबीर नगर: महिला दारोगा पर लगा आम लोगों से दबंगई करने का आरोप, फोटो वायरल

Jitendra Nishad

केरल : कैप्टन कुमार ने छत पर चॉपर उतार एयरलिफ्ट कर बचाई 26 लोगों की जान

Satya Prakash

सिद्धार्थनगर: पुलिस लाइन में इंस्पेक्टर की बंद कमरे में मिली लाश, मचा हड़कंप

BT Bureau