Breaking Tube
Police & Forces

लखनऊ: घर से बिना बताये निकले 2 मासूम भटके रास्ता, सिपाही ने भूखे-प्यासे बच्चों को खाना खिलाया फिर परिवार से मिलाया

UP Police Constable hungry and thirsty 2 innocent children handed over to the family feed in Lucknow

उत्तर प्रदेश की लखनऊ पुलिस (Lucknow Police) ने एक बार फिर से मित्र पुलिस वाला काम किया है, जिससे जानकर आप भी पुलिस की तारीफ करने से बिल्कुल भी पीछे नहीं हटेंगे. दरअसल, यूपी पुलिस (UP Police) के एक सिपाही (Constable) ने घर से बताये निकले 2 मासूम बच्चों को उनके परिजनों के सुपुर्द किया बल्कि उनकों खाना खिलाकर उनका पूरा ध्यान भी रखा. ये दोनों बच्चे अपने मामा से मिलने अमौसी एयरपोर्ट (Amausi Airport) गए थे और वापस आते समय अपने घर का रास्ता भटक गए. जिसके बाद सिपाही ने सकुशल दोनों मासूमों को उनके परिवार वालों से मिलवाया.


Also Read: Video: दारोगा ने सिपाही को जड़ा तमाचा फिर बीच सड़क पर दोनों में चले जमकर लाठी-डंडे


दरअसल, इंदिरा नगर से 2 मासूम बच्चे घर में बिना बताए ही मामा से मिलने अमौसी एयरपोर्ट पहुंच गए और यहां रास्ता भटक गए. एयरपोर्ट परिसर में देर शाम बदहवाश घूम रहे बच्चों पर सिपाही रवि कुमार सिंह की नजर पड़ी तो उन्होंने मासूमों से पूछताछ की. जानकारी होने के बाद सिपाही ने भूखे-प्यासे बच्चों को खाना खिलाया और परिवार वालों को बुलाकर उनके सुपुर्द कर दिया.


Also Read : इन जिलों के कप्तानों पर सख्त हैं CM योगी, रूस से वापसी के बाद ले सकते हैं कड़ा फैसला, लापरवाह अफसरों को भेजेंगे जेल


पुलिस के मुताबिक एयरपोर्ट की टर्मिनल-1 बिल्डिंग के बाहर 2 मासूम दोपहर से शाम तक पूरा दिन घूम रहे थे. लेकिन, उन पर किसी का ध्यान नहीं गया. देर शाम करीब 7 बजे सरोजनीनगर थाने में तैनात सिपाही रवि कुमार सिंह की नजर पड़ी तो बच्चों के पास पहुंचकर पूछताछ की. पूछताछ पर बच्चों ने अपना नाम मनवीर (8) और आर्यन (6) बताया और पिता का नाम इंदिरा नगर स्थित पॉलीटेक्निक के पास रहने वाले रमेश वर्मा बताया. बच्चों ने बताया कि वे एयरपोर्ट पर नौकरी करने वाले मामा पूरन से मिलने सुबह ही बिना किसी तो सूचना दिए घर से पैदल निकले थे.


Also Read: आईजी सतीश गणेश ने पीड़ित बनकर ली थानेदार की परीक्षा, पास होने पर थपथपाई पीठ और दिया 5000 का ईनाम


सिपाही ने जानकारी की तो पता चला कि पूरन एयरपोर्ट पर फायर सेफ्टी विभाग में संविदा पर काम करता है. सिपाही रवि कुमार ने पूरन को बुलवाकर बच्चों से मुलाकात कराई. इस बीच सूचना पर एयरपोर्ट पहुंचे रमेश वर्मा ने बच्चों को देखा तो उनकी जान में जान आई. उन्होंने बताया कि बच्चे की तलाश में पूरा परिवार परेशान था, उन्होंने सिपाही का आभार व्यक्त किया.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

यूपी: कांस्टेबल का DGP के नाम पत्र, लिखा- अमेठी पुलिस लाइन में होता है सिपाहियों का शोषण, ड्यूटी के एवज में होती है वसूली

BT Bureau

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर की हत्या के आरोपी फौजी जीतू ने STF के सामने बताई हकीकत, हटाए गए ASP ग्रामीण

Jitendra Nishad

डाउनलोड कीजिए UPCOP एप और घर बैठे दर्ज कराइए FIR, ये सुविधाएं भी मिलेंगी

BT Bureau