Breaking Tube
Politics

बैन हटते ही बरसीं मायावती- योगी दलितों के यहां खाना खाकर मीडिया में चलवा रहे, निष्पक्ष चुनाव असंभव

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती पर आज सुबह बैन हट गया है. उन्होंने बैन हटने के तुरंत बाद चुनाव आयोग पर निशाना साधा है. मायावती ने ट्वीट करके पूछा कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ बैन के बाद मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं और चुनावी लाभ ले रहे हैं. उन पर आयोग इतना मेहरबान क्यों है?


मायावती ने कहा, ‘चुनाव आयोग की पाबंदी का खुला उल्लंघन करके यूपी के सीएम योगी शहर-शहर व मन्दिरों में जाकर एवं दलित के घर बाहर का खाना खाने आदि का ड्रामा करके तथा उसको मीडिया में प्रचारित/प्रसारित करवाके चुनावी लाभ लेने का गलत प्रयास लगातार कर रहे हैं किन्तु आयोग उनके प्रति मेहरबान है, क्यों?’



मायावती ने पूछा, ‘अगर ऐसा ही भेदभाव व बीजेपी नेताओं के प्रति चुनाव आयोग की अनदेखी व गलत मेहरबानी जारी रहेगी तो फिर इस चुनाव का स्वतंत्र व निष्पक्ष होना असंभव है. इन मामलों मे जनता की बेचैनी का समाधान कैसे होगा? बीजेपी नेतृत्व आज भी वैसी ही मनमानी करने पर तुला है जैसा वह अबतक करता आया है, क्यों?



पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि आज दूसरे चरण का मतदान है और बीजेपी व पीएम मोदी उसी प्रकार से नरवस व घबराए लगते हैं जैसे पिछले लोकसभा चुनाव में हार के डर से कांग्रेस व्यथित व व्याकुल थी. इसकी असली वजह सर्वसमाज के गरीबों, मजदूरों, किसानों के साथ-साथ इनकी दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी संकीर्ण सोच व कर्म है.



बता दें कि बसपा चीफ मायावती ने देवबंद में एक रैली के दौरान मुसलमानों से एकजुट होकर गठबंधन के प्रत्याशी को वोट देने की अपील की थी, जिसे चुनाव आयोग ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए 48 घंटे के लिए बैन लगा दिया था जो कि गुरूवार सुबह हट गया है.


Also Read: ‘खाकी अंडरवियर’ वाले बयान पर डिंपल यादव ने किया आजम खान का बचाव, बोलीं- यह छोटी सी बात


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

महाराष्ट्र : कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने किया एलान,BJP विधायक राम कदम की जीभ काटनेवाले को मिलेगा ईनाम

Aviral Srivastava

फिर ‘एक बार मोदी सरकार’ के आसार, जानिए किसे मिल सकती हैं कितनी सीटें: सर्वे

BT Bureau

योगी सरकार ने प्रदेश में बनाया भयमुक्त माहौल, हो रहा है निवेश: सुरेश राणा

BT Bureau