Police & Forces

Video: मरणासन्न अवस्था में है सिपाही की मां, लेखाधिकारी नहीं कर रहा जीपीएफ फंड का पेमेंट

PAC 37th Battalion constable

सोशल मीडिया फेसबुक पर एक यूपी पुलिस के पीएसी विभाग के एक जवान ने सरकारी विभाग में फैली लापरवाही की पोल खोल कर रख दी। उसने फेसबुक लाइव के जरिए बताया कि किस कदर सरकारी विभागों में कर्मचारियों की समस्याओं को अनदेखा किया जाता है। पुष्पेंद्र चौहान यूपी पीएसी 37बटालियन में बतौर कांस्टेबल ने बताया कि पिछले काफी समय से उनकी मां बीमार हैं और अभी तक लेखाधिकारी उनका जीपीएफ फंड का पेमेंट नहीं कर रहे।

 

जीपीएफ फंड का पेमेंट रिलीज करने में आनाकानी

जानकारी के मुताबिक, यूपी पुलिस में पीएसी 37वीं बटालियन में बतौर कांस्टेबल पुष्पेंद्र चौहान की मां पिछले एक साल से बीमार हैं। वो बेसिक शिक्षा विभाग में चतुर्थ श्रेणी की कर्मचारी कार्यरत थीं। इसका पुष्पेंद्र ने वीडियो भी वायरल किया था। पुष्पेंद्र का कहना है कि लेखाधिकारी कामेश्वर प्रसाद मिश्रा द्वारा जीपीएफ फंड का पेमेंट नहीं किया जा रहा है। इन पैसों से पुष्पेंद्र अपनी बीमार मां का इलाज कराना चाहते हैं।

 

Also Read : यूपी: ड्यूटी के दौरान सिपाही को डंपर ने कुचला, आंखों में आंसू लिए पत्नी बोली- अब कैसे होगा बच्चों का गुजारा

पुष्पेंद्र के मुताबिक, उन्होंने शिक्षामंत्री स्वतंत्र प्रभार अनुपमा जायसवाल के ऑफिस से संपर्क किया, लेटर भेजा साथ ही जिलाधिकारी कानपुर देहात को भी लेटर भेजा। लेकिन कहीं से कोई सुनवाई नहीं हुई। उसका कहना है कि पांच दिनों से लेखाधिकारी बेसिक शिक्षा विभाग कानपुर देहात कामेश्वर प्रसाद मिश्रा से बात हो रही। उनका कहना है कि आपका पेमेंट बन चुका है और ट्रेजरी में पड़ा है, वहां से आपका पेमेंट नहीं हो पा रहा है।

 

Also Read : बसपा नेता की हत्या में नप गया पूरा थाना, थाना प्रभारी समेत 39 पुलिसकर्मी हटाए गए

 

लेकिन जब पुष्पेंद्र ने ट्रेजरी में फोन करके पता किया तो वहां कोई पेमेंट पहुंचा ही नहीं। ऐसे में जब पुष्पेंद्र ने दोबारा लेखाधिकारी से बात की तो उन्होंने कहा कि आपका बिल हम आज भिजवा रहे।

 

सुनिए पीएसी के जवान का दर्द

Posted by Chauhan Pushpendra on Monday, November 5, 2018

 

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

27 total views, 1 views today

Related news

औरंगजेब के कातिलों से बदला लेने के लिए नौकरी छोड़ अरब से वापस लौटे 50 दोस्त

Aviral Srivastava

आंदोलन करने पर हुई कार्रवाई, तो यूपी के पुलिसवालों ने निकाला विरोध का अनोखा तरीक़ा

Jitendra Nishad

शर्मनाक: हेड कांस्टेबल को इंस्पेक्टर ने दिए थे 4500 रुपए, फिर भी सड़े-गले टायरों से किया शव का अंतिम संस्कार

BT Bureau

Leave a Comment