Police & Forces

10 दिन के भीतर दो भाइयों को 2 लाख देगी यूपी पुलिस, इन पुलिसकर्मियों की कटेगी सैलरी

Varanasi

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के वरुणा पुल स्थित अभिलाषा कॉलोनी निवासी दो सगे भाइयों शंकर यादव और बलराम यादव को अवैध हिरासत में रखने के बदले पुलिस उन्हें दो लाख रुपया मुवाअजा देगी। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के इस निर्देश पर प्रदेश के गृह (मानवाधिकार) अनुभाग के अनु सचिव ने वाराणसी एसएसपी को पत्र भेजा है।

 

पुलिसकर्मियों की सैलरी से होगी दो लाख रुपए की भरपाई 

वाराणसी एसएसपी को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि दोनों भाइयों को दो लाख रुपए देकर भुगतान से संबंधित साक्ष्य 10 दिन के भीतर मानवाधिकार आयोग और प्रदेश सरकार को भेज दिया जाए। बताया जा रहा है कि दोनों भाइयों को दिए जाने वाले दो लाख रुपए की भरपाई दोषी पुलिसकर्मियों की सैलरी से काट कर की जाएगी।

 

Also Read: यूपी: सिपाही को गोली मारकर चौकी के पास फेंका शव, 21 जनवरी को होनी थी शादी

 

दरअसल, दो नवंबर, 2015 की शाम के वक्त व्हाट्स एप पर वायरल हुए एक मैसेज से सामने आया था कि सगे भाई शंकर और बलराम को कैंट थाने में इंस्पेक्टर रतन सिंह यादव 14 दिन से अवैध हिरासत में रखे हुए हैं। वहीं, दोनों भाइयों के परिजनों ने आरोप लगाया था कि फर्जी मुकदमें में फंसाने की धमकी देकर इंस्पेक्टर उनकी जमीन अपने नाम लिखाने का दबाव बना रहे हैं।

 

Also Read: यूपी: ऐसे DGP जिन्होंने पुलिसकर्मियों की गृह जनपद के पास तैनाती का लिया फैसला, कहा था ऐसा करने से अनुशासित रहते हैं पुलिसवाले

 

 

एसएसपी खुद छुड़वाने पहुंचे थे कैंट थाने

जानकारी के मुताबिक, मैसेज को संज्ञान में लेकर तत्कालीन एसएसपी आकाश कुलहरि खुद कैंट थाने पहुंचे और दोनों भाइयों का बयान कैमरे के सामने दर्ज कराकर उन्हें घर भेज दिया था। बताया जा रहा है कि इस मामले की शिकायत मानवाधिकार जननिगरानी समिति के महासचिव डॉक्टर लेनिन रघुवंशी ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से की थी।

 

Also Read: मेरठ: गंगानगर थाने के पुलिसकर्मी नहीं होंगे तनाव का शिकार, इंस्पेक्टर राकेश कुमार के फैसले ने पेश की मिसाल

 

आयोग को  पुलिस की तरफ से भेजी गई रिपोर्ट के मुताबिक, तत्कालीन इंस्पेक्टर और मौजूदा डीएसपी रतन सिंह यादव दोनों भाइयों को अवैध हिरासत में रखने के दोषी पाए गए और दंड स्वरूप उनकी चरित्र पंजिका पर प्रतिकूल प्रविष्टि दर्ज की गई है। मानवाधिकार जननिगरानी समिति के महासचिव डॉक्टर लेनिन रघुवंशी ने दोनों भाइयों के मानवाधिकारों के उल्लघंन के लिए मुआवजे की मांग की थी।
देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

33 total views, 1 views today

Related news

बुलंदशहर: जीतू फौजी को सेना ने नहीं किया पुलिस के हवाले, सैन्य अधिकारियों ने लिया बड़ा फैसला

Jitendra Nishad

Special: पुलिस नियमावली में निर्धारित 30 CL और 30 EL पुलिसकर्मियों को मिलने लगे तो वीकली ऑफ की नहीं पड़ेगी जरूरत

Jitendra Nishad

यूपी: किराए पर कमरा लेकर रह रहे कांस्टेबल का शव बरामद होने से मचा हड़कंप

Jitendra Nishad

Leave a Comment