Politics

जानिए एक पोस्टर चिपकाने वाला कार्यकर्ता कैसे बन गया देश का गृहमंत्री

पूरी दुनिया को पता था कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे लेकिन किसी को यह नहीं पता था कि तीसरे नंबर पर शपथ लेने वाले अमित शाह को दूसरे नंबर का मंत्रालय यानी कि गृह मंत्रालय मिलने जा रहा है. आज भारतीय जनता पार्टी की इस सफलता के पीछे सबसे बड़ा हाथ अमित शाह को दिया जाता है.


‘अमित’ शब्द का मतलब होता है ‘विशाल’ माने कि कुछ बड़ा, वैसे तो हर किसी का सपना होता है कि जीवन में कुछ बड़ा करने का लेकिन इन्हें साकार कम ही लोग कर पाते हैं बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह उनमें से एक हैं जिन्होंने अपने नाम को चरितार्थ किया. शाह राजनीतिक बिसात के ऐसे बाजीगर बनकर उभरे हैं जिनकी चाल विपक्ष भी हारने के बाद भी समझ पाता. शाह को ये संज्ञाएं कोई उत्तराधिकार में नहीं मिली इसके पीछे उनकी वर्षों की तपस्या बताई जाती है.


Related image

बात चाहें व्यूह संरचना की हो या फिर सूझबूझ की बंसल सभी कसौटियों पर खरे उतरते हैं और इसकी तस्दीक लोकसभा चुनावों पर आये एग्जिट पोल भी कर रहें हैं. रणनीति बनाने में माहिर माने जाने वाले शाह को लोग चाणक्य की उपाधि से नवाजते हैं. आइये जानते हैं अमित कौन हैं अमित शाह..


Image result for amit shah chanakya

अमित शाह का शुरुआती जीवन

22 अक्तूबर 1964 को मुंबई के एक जैन बनिया परिवार में अमित शाह का जन्म हुआ था. 14 वर्ष की छोटी आयु में वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में शामिल हुए थे. गांधीनगर के एक छोटे से शहर मनसा में ‘तरुण स्वयंसेवक’ के रूप में उन्‍होंने शुरुआत की थी. बाद में वे कॉलेज की पढ़ाई के लिए अहमदाबाद आए, जहां वे एबीवीपी में शामिल हो गए.


Image result for Amit Shah rare images

1982 में बायो-केमेस्ट्री के छात्र के रूप में अमित शाह अहमदाबाद में एबीवीपी के सचिव बन गए. फिर वे बीजेपी की अहमदाबाद इकाई के सचिव बने. तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. 1997 में भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बने और फिर भाजपा प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष बनाए गए.


Image result for Amit Shah rare images

जीवन का वह मुश्किल दौर

गैंगस्टर सोहराबुद्दीन शेख़ और उनकी पत्नी कौसर बी के कथित फ़र्ज़ी एनकाउंटर में अमित शाह का नाम आने के बाद ऐसा लग रहा था कि अमित शाह का राजनीतिक सफर अब थम गया. अमित शाह उस समय गुजरात के गृह मंत्री थे, जब सोहराबुद्दीन और उनकी पत्नी को 2005 में एनकाउंटर में मार दिया गया था.


Image result for Amit Shah rare images

अमित शाह का नाम 2006 में तुलसीराम प्रजापति के कथित फ़र्ज़ी एनकाउंटर में भी आया था. सोहराबुद्दीन के परिवार ने सुप्रीम कोर्ट का रुख़ किया तो 2005 से 2006 के बीच हुए इस मामले की विस्तार से जांच शुरू हुई. 25 जुलाई 2010 को अमित शाह गिरफ़्तार कर लिए गए. 29 अक्तूबर 2010 को उन्हें ज़मानत मिली थी. उन पर अक्तूबर 2010 से लेकर सितंबर 2012 तक गुजरात में दाख़िल होने पर रोक थी. आख़िरकार सीबीआई कोर्ट ने 30 दिसंबर 2014 को उन्हें बरी कर दिया.


Image result for Amit Shah arrested

संगठनात्मक कौशल


अमित शाह के बारे में कहा जाता है कि वे एक बेहतरीन मैनेजर हैं. उनका अनुशासन सेना की तरह है जो बीजेपी कार्यकर्ताओं में देखने को मिलता है. वो अपने कैडर को ख़ुद अनुशासन की सीख देते हैं. दशकों से बूथ मैनेजमेंट पर जोर दे रहे हैं. 2010 में उन्‍हें बीजेपी का महासचिव बनाया गया और उत्‍तर प्रदेश की जिम्‍मेदारी दी गई.


Image result for Amit Shah 2014

यह अमित शाह की ही देन है कि जिस बीजेपी ने यह मान लिया था कि वह हिंदी पट्टी की पार्टी है, उसकी अब नॉर्थ ईस्‍ट के अधिकांश राज्‍यों में सरकारें हैं. त्रिपुरा की वर्षों पुरानी वाम मोर्चा सरकार को बीजेपी ने अगर उखाड़ फेंका तो यह अमित शाह के संगठनात्‍मक कौशल का ही कमाल है. अब पश्‍चिम बंगाल में पार्टी ने ममता के गढ़ को जबर्दस्‍त चोट पहुंचाई है. तेलंगाना में पार्टी ने दमदार उपस्‍थिति दर्ज कराई है.


Image result for Amit Shah 2014

खुद से खुदका करते हैं मुकाबला

पार्टी अध्यक्ष के तौर पर शाह के लगभग पांच साल पूरे हो गए हैं और इन वर्षों में ऐसे प्रसंग सैकड़ों की संख्या में होंगे. दरअसल, यही गुण हैं जो उन्हें वर्तमान राजनीति का अजेय चाणक्य बनाते हैं. यह भी जानना जरूरी है कि शाह ऐसे बिरले नेताओं में शुमार हैं जिनके ड्राइंग रूम में चाणक्य की फोटो मिलेगी. वह खुद बचपन से शतरंज के शौकीन रहे हैं और गुजरात में रहते हुए यह प्रयास भी करते रहे कि बच्चों को शतरंज जरूर सिखाया जाए ताकि वह जीवन की कला भी सीख सकें. शायद उन्होंने इसे इतना आत्मसात कर लिया है कि अब वह खुद के लिए कठिन लक्ष्य तय करते हैं और फिर उन्हें तोड़ते हैं.


Related image

अमित शाह को करीबी से जानने वाले कहते हैं कि ये उनमे से हैं जो खुद से खुदका मुकाबला करते हैं और वैसे ही लक्ष्य बनाते हैं. वैसे ये बात सच सी लगती है, नहीं तो कोई कारण नहीं था कि 2014 में 282 सीटों के भारी भरकम लक्ष्य को भेदकर वह 300 पार का लक्ष्य तय करते और फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चमत्कारिक व्यक्तित्व और कौशल के जरिये उसे भी पूरा कर देते.


Also Read: मिलिए ‘द मैन ऑफ़ विजन, मिशन और एक्शन’ सुनील बंसल से, जिनकी बदौलत बीजेपी ने यूपी में लगाई जीत की हैट्रिक


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

कांग्रेस को लेकर बसपा गर्म तो सपा नर्म, जानें क्या है अखिलेश की योजना

BT Bureau

अलीगढ़ ‘लाइव एनकाउंटर’ पर कांग्रेस का योगी सरकार पे हमला, बोली- ‘शर्मशार हुई मानवता’

BT Bureau

टूटा सपा-बसपा गठबंधन, मायावती बोलीं- अगर अखिलेश ने अपनी पार्टी सुधारी तो फिर आ सकते हैं साथ

BT Bureau