Breaking Tube
Politics

कर्नाटक उपचुनाव रिजल्ट : बीजेपी सिर्फ एक सीट पर आगे, चार पर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को बढ़त

Karnataka by election

कर्नाटक में लोकसभा की तीन और विधानसभा की दो सीटों पर हुए उपचुनाव के वोटों की गिनती मंगलवार को जारी है। शुरुआती रूझानों में बीजेपी को झटका लगता दिख रहा है। तीन लोकसभा और दो विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस जामखंडी और बेल्लारी में आगे चल रही हैं वहीं, जेडीएस रमनगर और मांड्या में आगे चल रही है। बीजेपी केवल शिमोगा में आगे चल रही है। लोकसभा की तीन सीटों- शिवमोगा, बल्लारी और मांड्या और विधानसभा की दो सीटों- रामनगर और जामखंडी पर उपचुनाव शनिवार को हुए थे।

 

पांच सीटों पर कुल 54.5 लाख वोटर 

कर्नाटक के उपचुनाव में इन पांचों सीटों पर शनिवार को 67 फीसदी वोटिंग हुई थी। जानकारी के मुताबिक, 31 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिसमें बीजेपी के पांच, कांग्रेस के तीन, जेडीएस के दो और 21 निर्दलीय उम्मीदवार हैं। कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन और बीजेपी के लिए उपचुनाव काफी अहम माना जा रहा है। बता दें, कर्नाटक की इन पांचों सीटों पर कुल 54.5 लाख वोटर हैं, जिनमें 27.2 लाख पुरुष और 27.3 लाख महिलाएं हैं। इनमें से करीब 36.5 लाख लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

 

Also Read : MP Assembly Election 2018: बीजेपी ने जारी की 17 प्रत्याशियों की दूसरी लिस्ट

 

उपचुनाव के नतीजे मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी की पत्नी अनीता कुमारस्वामी, भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा के बेटे बी वाई राघवेंद्र और पूर्व मुख्यमंत्री एस बंगरप्पा के बेटे मधु बंगरप्पा समेत कई अन्य के भाग्य का फैसला करेंगे। जानकारी के मुताबिक, मई में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस-जेडीएस ने मिलकर सरकार बनाई थी।

 

Also Read : डिप्रेशन में बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री, पत्रकारों से पूछा- फांसी लगाकर मर जाऊं

 

शिवमोगा लोकसभा सीट से लड़ रहे येदियुरप्पा के बेटे

शिवमोगा लोकसभा सीट से कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के बेटे राघवेंद्र चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं रामनगरम विधानसभा सीट से मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की पत्नी अनिता कुमारस्वामी चुनाव लड़ कही हैं। चुनावों में मुख्य मुकाबला कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन और भाजपा के बीच है।

 

Also Read: वाराणसी: 16 साल बाद जेल से ‘श्रीमद्भागवत गीता’ लेकर रिहा हुआ पाकिस्तानी कैदी, बोला- इस देश में बहुत प्यार मिला

 

वहीं बेल्लारी सीट की अगर बात करें तो यहां कांग्रेस-जेडीएस और भाजपा में मुख्य टक्कर है। 2014 में यह सीट भाजपा ने जीती थी। जहां येदियुरप्पा ने 2014 में जीत दर्ज की थी, वहीं से उनके बेटे भी किस्मत आजमा रहे हैं। मंड्या सीट 2014 में जेडीएस के खाते में आई थी।

 

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मिशन 2019:अमित शाह ने यूपी में सांसदों का माँगा फीडबैक,भविष्य की तय होगी रणनीति

Aviral Srivastava

CBI जांच पर अखिलेश यादव का शायराना तंज: ‘बदनीयत है जिसकी बुनियाद उस खबर से फिक्र क्यों’

BT Bureau

तेलंगाना में सीएम योगी का एलान, बीजेपी की सरकार बनी तो हैदराबाद का नाम कर देंगे भाग्यनगर

BT Bureau

Leave a Comment