Breaking Tube
Lok Sabha 2019 Politics

शिवपाल और अखिलेश को एक मंच पर लाने में जुटे नेताजी ने निकाला ये बीच का तरीका

Mulayam Singh Yadav

मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और बेटे अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव दोनों को खुद से अलग होते नहीं देखना चाहते हैं। एक तरफ नेताजी पुत्र मोह और दूसरी तरह भाई के प्रेम में फंस गए हैं। नेताजी सपा अध्यक्ष के साथ भी खड़े होते हैं और समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के संयोजक के साथ भी। ऐसे कहा जा रहा है कि यह मुलायम सिंह यादव का राजनीतिक दांव है जो भाई और बेटे की राजनीति में आजमाया जा रहा है।

 

नेताजी के स्टैंड से कार्यकर्ता कन्फ्यूज

सूत्रों का कहना है कि मुलायम सिंह यादव का यह स्टैंड कार्यकर्ताओं के लिए कन्फ्यूजन का विषय बना हुआ है। बता दें कि पिछले दो साल से समाजवादी पार्टी में मचे घमासान में नेताजी की अहम भूमिका बनी हुई है। एक तरफ वो सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ मंच साझा करते हैं तो दूसरी तरफ शिवपाल सिंह यादव के साथ भी नजर आते हैं।

 

Also Read : शिवपाल यादव का भाजपा पर हमला, कहा- मौजूदा सरकार में बेरोजगारी बढ़ी, हर वर्ग परेशान

 

 

ऐसे में कार्यकर्ताओं में असमंजस की स्थिति बन गई है। मुलायम सिंह कभी खुद को सम्मान न दिए जाने को लेकर अखिलेश पर निशाना साधते हैं। वहीं, दूसरी तरफ भाई शिवपाल को समाजवादी पार्टी में बने रहने के लिए मजबूर करते हैं। ऐसे में जब शिवपाल ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन कर लिया। इसके बावजूद भी नेताजी दोनों के बीच सुलह कराने की कोशिश कर रहे हैं।

 

Also Read : अब समाजवादी पार्टी में चुगलखोरों और चापलूसों का राज है: शिवपाल

 

सूत्रों का कहना है कि सुलह के इसी कोशिश में नेताजी बारी-बारी से शिवपाल और अखिलेश के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं। यही नहीं, नेताजी ने अखिलेश यादव की गैरमौजूदगी में पार्टी कार्यकर्ताओं का नेतृत्व भी किया। इसके बाद दिल्ली में सपा की साइकिल रैली समापन कार्यक्रम में अखिलेश के साथ मंच पर नेताजी नजर भी आए।

 

Also Read :  शिवपाल ने बोला अखिलेश पर हमला, कहा- बौखला गए हैं क्योंकि समाजवादी पार्टी का…

 

 

अखिलेश को नहीं मान रहे वैचारिक उत्तराधिकारी

सेक्युलर मोर्चा के संयोजक के समर्थकों का कहना है कि शिवपाल सिंह यादव ने छोटे भाई की तरह मुलायम सिंह की हर बात मानी है जबकि अखिलेश यादव तो पुत्र धर्म भी निभाना भूल गए। उनका कहना है कि  मुलायम सिंह समाजवादी पार्टी कार्यालय में अपने साथ हुए अन्याय का शोक मनाने के लिए जाते हैं।

 

Also Read :  चुनाव में अखिलेश को पता चलेगी समाजवादी पार्टी की औकात : शिवपाल

 

मुलायम सिंह ने दावा कि वे पूरी तरह से समाजवादी पार्टी को मजबूत बनाने में लगे हैं। लेकिन इसके बाद नेताजी लोहिया जयंती के मौके पर लोहिया ट्रस्ट मे शिवपाल सिंह यादव के साथ खड़े दिखाई दिए। प्रदेश की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी भी मानती है की मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपना वैचारिक उत्तराधिकारी नहीं मान रहे हैं।

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

सपा-बसपा की साझा प्रेस कांफ्रेस आज, जानें अखिलेश-मायावती के गठबंधन की 7 बड़ी शर्तें

BT Bureau

राजनीतिक दलों के साथ EC की बैठक खत्म, कुछ पार्टियों ने EVM पर उठाए सवाल

Ambuj

भोपाल में महारैली से पहले पीएम मोदी-अमित शाह और शिवराज की तस्वीर पर पोती कालिख

Jitendra Nishad

Leave a Comment