Breaking Tube
Politics

Video: मोदी के हाथों से खाना खाकर खिल उठे गरीब बच्चों के चेहरे, पीएम बोले- मजबूत इमारत के लिए ठोस नींव जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को गरीब स्कूली बच्चों को खाना परोसने के लिए वृंदावन में आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंचे. यहां उन्होंने बच्चों को पोषक भोजन मिलने की आवश्यकता पर जोर दिया. साथ ही कहा कि हमारी सरकार ने बचपन को मजबूत सुरक्षा चक्र देने का काम किया है.


स्कूली बच्चों को खाना परोसते प्रधानमंत्री मोदी

उत्तर प्रदेश के वृंदावन में आयोजित अक्षय पात्र फाउंडेशन के इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने 300 करोड़वीं थाली के तहत बच्चों को खाना परोसा. उनके साथ यूपी के राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ, कैबिनेट मंत्री और भाजपा सांसद ने भी बच्चों को भोजन परोसा. इस दौरान उन्होंने कहा कि जो दान कर्तव्य समझकर बिना किसी उपकार की भावना से, उचित स्थान से, उचित समय पर योग्य व्यक्ति को दिया जाता है, उसे सात्विक दान कहते हैं.


बच्चों को खाना परोसते प्रधानमंत्री मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी तय कार्यक्रम से करीब आधे घंटे देरी से अक्षय पात्र परिसर पहुंचे. यहां उनका स्वागत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक ने किया. जैसे ही प्रधानमंत्री मंच पर पहुंचे पूरा पंडाल मोदी मोदी के नारों से गूंजा उठा. मोदी ने हाथ उठाकर सभी लोगों का अभिवादन स्वीकार किया.


लोगों का अभिवादन स्वाकीर करते प्रधानमंत्री

पीएम ने खाना बनाने से लेकर खाना बनाने, पहुंचाने वाले सभी लोगों का आभार जताया. उन्होंने कहा, ‘जिस प्रकार मकान के नींव का मजबूत होना आवश्यक है, उसी तरह देश के बचपन को मजबूत होना चाहिए. गर्भ से ही बच्चों के सेहत का ख्याल रखा जाना चाहिए. जिसका आहार, आचार संतुलित हो, ध्यान का रास्ता उसके दुखों को समाप्त कर देता है.



Also Read: Video: पत्रकार रोकते रह गए, 1800 सीसी की इस गाड़ी से निकल गए रॉबर्ट वाड्रा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

मीडिया से बात करते भावुक हुए दिनेश शर्मा, कहा- आज जो भी हूँ अटल जी की वजह से हूँ

Aviral Srivastava

आज बीजेपी निकालेगी ‘कमल संदेश बाइक रैली’, काशी में CM योगी देंगे ‘कमल संदेश

BT Bureau

Audio: सामने आया बीजेपी विधायक मंजू त्यागी और इंस्पेक्टर दिवाकर का पार्ट-2, विधायिका बोलीं- टांगे फाड़कर फेंक देना

Jitendra Nishad

Leave a Comment