Politics

जमानत तक नहीं बचा पाए राजा भैया की जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के दोनों प्रत्याशी

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के कुंडा से निर्दलीय बाहुबली विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया की जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के दोनों प्रत्याशी लोकसभा चुनाव 2019 में हार गए हैं। राजा भैया की पार्टी ने प्रतापगढ़ सीट पर अक्षय प्रताप सिंह और कौशांबी सीट पर शैलेंद्र कुमार को अपना प्रत्याशी बनाकर चुनावी मैदान में उतारा था लेकिन लोकसभा चुनाव के नतीजे बता रहे हैं कि उनकी पार्टी के दोनों उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई है।


अक्षय प्रताप सिंह नहीं दे पाए कांटे की टक्कर

कौशांबी में शैलेंद्र कुमार थोड़ी बहुत टक्कर दे पाए लेकिन प्रतापगढ़ में अक्षय प्रताप बेहद कम वोट हासिल कर पाए। बता दें कि प्रतापगढ़ सीट पर चुनाव लड़ रहे राजा भैया के रिश्तेदार अक्षय प्रताप उर्फ गोपाल जी को महज 46963 वोट हासिल हुए जो कुल 914665 वोट का 5.13 फीसदी ही है. अक्षय प्रताप से ज्यादा वोट कांग्रेस की उम्मीदवार रानी रत्ना सिंह को मिले, जो इलाके में राजा भैया की राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी भी मानी जाती हैं।


Also Read: BJP की जीत पर स्वरा भास्कर ने किया ऐसा ट्वीट कि हो गईं ट्रोल, एक यूजर ने लिखा- अभी तो और जलील होना है आपको


हालांकि रत्ना सिंह भी अपनी जमानत नहीं बचा सकीं, उन्हें 76686 वोट मिले, जो कुल वोटों का 8.43 प्रतिशत ही हैं। इस सीट पर भाजपा के संगम लाल गुप्ता ने जीत दर्ज की है, जिन्हें 436291 वोट मिले। उधर, गठबंधन के प्रत्याशी अशोक त्रिपाठी 318539 वोट के साथ दूसरे नंबर पर रहे।


Also Read: अनुराग कश्यप की बेटी को मिली रेप की धमकी, PM मोदी से लगाई गुहार, बोले- सर बताइए आपके समर्थकों से कैसे निपटें…


उधर कौशांबी लोकसभा सीट पर जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के प्रत्याशी शैलेंद्र कुमार भी अपनी जमानत नहीं बचा सके। शैलेंद्र कुमार को 156406 वोट मिले, जो कि कुल वोटों का 16.05 प्रतिशत है। वहीं, इस सीट पर बीजेपी के विनोद सोनकर ने 383009 वोटों के साथ जीत दर्ज की है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अगर सपा-बसपा गठबंधन से डर नहीं तो फिर ‘खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे’ की तरह क्यों व्यवहार रही बीजेपी: मायावती

BT Bureau

पीएम मोदी पर आजम का तंज, कहा- इमामत के लिए थोड़ी और बढ़ाएं दाढ़ी

Jitendra Nishad

शिवपाल के ऑफर से धर्मसंकट में मुलायम

Aviral Srivastava