Social

रेलवे स्टेशन में सफाईकर्मी है पिता, कठिन परिश्रम के बाद दारोगा बनी बेटी पुष्पा

purnia

कहा जाता है कि सच्ची लगन और नि:स्वार्थ भाव से कोई भी काम किया जाये तो कोई भी आपको सफलता हासिल करने से नहीं रोक सकता. ऐसी ही कहानी पूर्णिया जंक्शन पर सफाईकर्मी का काम करने वाले सुबोध मेहतर की बेटी पुष्पा कुमारी की. जिसने अपने संघर्ष और कठिन परिश्रम के बदौलत वो मुकाम हासिल किया है जो समाज के लिये प्रेरणा का काम करती है. दारोगा और बीपीएससी की परीक्षा में सफलता हासिल कर पुष्पा ने न केवल अपने परिवार और माता-पिता बल्कि पूर्णिया का भी गौरव बढ़ाया है. नारी सशक्तिकरण के इस दौर में बेटियां अब बेटों से काफी आगे निकल गई हैं. एक महादलित परिवार की सफाईकर्मी की बेटी पुष्पा ने जिस तरह से सीमित संसाधनों के बावजूद सफलता अर्जित की है. वो वैसे लोगों के लिये प्रेरणा का स्त्रोत है जो आज भी बेटियों को घर की दहलीज से बाहर नहीं जाने देते है.


Also Read: लोकसभा चुनाव: इस बार भी ग्लैमर की दुनिया के सितारों को टिकट देने की तैयारी में है TMC


बेटी की सफलता से परिजन खुश

पूर्णिया जंक्शन पर सफाईकर्मी का काम करने वाले सुबोध मेहतर की बेटी पुष्पा कुमारी ने दरोगा भर्ती की परीक्षा में सफलता अर्जित की. साथ ही बीपीएससी 63 वीं और 64वीं की पीटी परीक्षा में लगातार सफलता अर्जित की है. पुष्पा की इस सफलता से जहां उनके परिजन काफी खुश हैं. वहीं आसपास के लोग समेत रेलकर्मी भी काफी खुश हैं. पुष्पा का कहना है कि माता-पिता और गुरु के सहयोग से आज वो इस मुकाम तक पहुंची है. पुष्पा की मां गीता देवी कहती हैं कि आज उनकी बेटी ने उनका मान बढ़ाया है. बेटी की सफलता से वे लोग काफी खुश हैं. गीता देवी ने कहा कि उनकी बेटी ने काफी संघर्ष कर इस सफलता को अर्जित किया है.


 उन्होंने कहा कि उनके पिता सुबोध मेहतर रेलवे में सफाईकर्मी हैं. सीमित संसाधन के बावजूद वो काफी संघर्ष कर वे हमेशा सपोर्ट करते थे. उनके इसी सपोर्ट ने मेरा मनोबल बढाया और आज मैं इस मुकाम तक पहुंची हूं. पुष्पा ने कहा कि वो आगे भी अपना पढ़ाई जारी रखेगी और बीपीएससी में पूर्ण सफलता अर्जित कर देश और समाज की सेवा करेगी.

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का मूलमंत्र किया फॉलो

पुष्पा के पिता सुबोध मेहतर कहते हैं कि सरकार का नारा है कि ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’. इसी मूलमंत्र के साथ मैंने कभी बेटा और बेटी में फर्क नहीं किया. उन्होंने कहा कि वो रेलवे में सफाईकर्मी हैं. सीमित संसाधन के बावजूद वो काफी संघर्ष कर वे हमेशा सपोर्ट करते थे. इसी सपोर्ट से मैंने अपनी बेटी का मनोबल बढ़ाया और आज इस मुकाम तक पहुंचा पाया हूं. पुष्पा ने कहा कि वो आगे भी अपना पढ़ाई जारी रखेगी और बीपीएससी में पूर्ण सफलता अर्जित कर देश और समाज की सेवा करेगी.


Also Read: सोशल मीडिया पर किसी दल को ‘जिताया’ तो एडमिन पर होगा मुकदमा, वाट्सअप ग्रुप पर होगी निगरानी


रेलवे के कर्मचारियों ने खुश होकर बेटी को दी बधाई

पुष्पा की छोटी बहन रुपा भी अपनी दीदी की सफलता से बहुत ज्यादा खुश है. रुपा कहती है कि दीदी लोगों का भी काफी सहयोग करती है. वहीं पूर्णिया जंक्शन के रेलकर्मी भी अपने सफाईकर्मी की बेटी की इस सफलता से काफी खुश हैं और उन्हें बधाईयां दे रहे हैं. स्टेशन अधीक्षक मुन्ना कुमार ने कहा कि सुबेध मेहतर रेलवे के सफाईकर्मी हैं. वो अपनी ड्यूटी के साथ-साथ अपने बच्चों के प्रति भी काफी सजग हैं. इसी का नतीजा है कि इनकी बेटी दरोगा के साथ-साथ बीपीएससी में भी सफल हुई है.


 पुष्पा की मां गीता देवी कहती हैं कि आज उनकी बेटी ने उनका मान बढ़ाया है. बेटी की सफलता से वे लोग काफी खुश हैं. गीता देवी ने कहा कि उनकी बेटी ने काफी संघर्ष कर इस सफलता को अर्जित किया है. पुष्पा के पिता सुबोध मेहतर कहते हैं कि सरकार का नारा है कि बेटी बढाओ, बेटी पढाओ. इसी मूलमंत्र के साथ मैंने कभी बेटा और बेटी में फर्क नहीं किया.

Also Read: लोकसभा चुनाव: अपर्णा यादव को इस सीट से उतारने की तैयारी, मुलायम ने की अखिलेश से बात


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


1,314 total views, 9 views today

Related news

हरदोई: सरकारी स्कूल के उर्दू शिक्षक ने ‘नमस्ते’ की जगह ‘सलाम वालेकुम’ बोलने का सुनाया फरमान, मचा बवाल

BT Bureau

Pulwama Attack: शहीदों के परिजनों को मिलेगा उनके ही शहर में 2 BHK FLAT

Shivam Jaiswal

इस दिवाली भेजें अपने दोस्तों को इंग्लिश मैसेज और दे प्यारभरी शुभकामनाएं

Satya Prakash

Leave a Comment